Wednesday, April 14, 2021

बदल गई है चांदनी चौक की रौनक


दिल्ली का सबसे पुराना बाजार चांदनी चौक अब बदल रहा है। लालकिला से फतेहपुर मसजिद के बीच के सड़क का कायाकल्प हो गया है। सड़क के बीच में फूलों की क्यारियां और बैठने की बेंच लग गई है। दोनों तरफ के फुटपाथ चौड़े हो गए हैं। सड़क पर सिर्फ रिक्शा चलता है। बाकी सारे वाहनों पर रोक लग गई है। मतलब अब चांदनी चौक की सैर करना पहले से ज्यादा आनंददायक हो गया है।


चांदनी चौक की नई योजना के मुताबिक लालकिला से फतेहपुरी मसजिद के बीच की सड़क पर सुबह नौ बजे से रात नौ बजे बीच वाहनों के प्रवेश पर मनाही होगी। इससे सड़क पर चलने वालों को प्रदूषण मुक्त वातावरण में टहलने का मौका मिलेगा।   कई महीने तक चले  पुनर्विकास कार्य के बाद चांदनी चौक अब  नई रंगत में है।

इस मार्ग पर सिर्फ साइकिल रिक्शा या बैटरी रिक्शा ही चलते हुए नजर आ सकते हैं। तो इस तरह चांदनी चौक का नजारा करना अपने आप में सुखद एहसास होगा। पैदल चलते हुए दरीबा गली के पास जलेबी वाला के पास पहुंच जाइए। इसके आगे चलकर गुरुद्वारा शीशगंज पहुंच जाएं। 


सिर्फ दिल्ली ही नहीं बल्कि देश के कोने कोने से  राजधानी में आने वाले लोगो ंके लिए चांदनी चौक में आकर खरीददारी करना लोगों की पसंद रही है।  काफी लोग खरीददारी करने से पहले चांदनी चौक में तफरीह करना पसंद करते हैं। इस तफरीह के साथ ही स्ट्रीट फूड में कुछ खाना पीना भी हो जाता है।

पुनर्विकास के बाद चांदनी चौक  का इलाका और खूबसूरत हो गया है। पेट्रोल और  डीजल से चलने वाले वाहनों पर रोक लगने के कारण अब यहां आने वाले लोग बेहतर  हवा  में सांस लेते हुए सड़कों पर टहलने का आनंद उठा सकते हैं।

चांदनी चौक का इलाका खास तौर पर शाकाहारी खाने पीने वाले लोगों के लिए कई अच्छे  विकल्प उपलब्ध कराता है।  सिर्फ खाना पीना ही क्यों सैकड़ो साल पुरानी अपनी जानी पहचानी प्रसिद्ध दुकानों से खरीददारी के लिए भी आप इधर पधार सकते हैं। 

आपको पता है चांदनी चौक को मूल रूप से 1650 में  शाहजहां की पुत्री जहां आरा बेगम ने डिजाइन किया था। तब इसमें  1560 दुकानें बनाई गई थी। इसकी सड़क 40 गज चौड़ी थी।  सड़क की लंबाई  1520 गज थी। इसके केंद्र में एक ताल हुआ करता था।  चांदनी रात में इस ताल का पानी रोशनी से चमक उठता था। 


अगर अपने वाहन से आए हैं तो जामा मसजिद के बगल में स्थित पार्किग में वाहन लगाकर पैदल घूमने निकल जाएं। वैसे तो बेहतर होगा कि मेट्रो रेल से आएं और चांदनी चौक स्टेशन से बाहर निकलकर यहां की गलियों में घूमना शुरू करें।   नई  रूप में चांदनी चौक में फुटपाथ पर पदयात्रियों के लिए ज्यादा जगह बन गई है। वहीं सड़क के बीचों बीच हरियाली  दिखाई देने लगी है।
- विद्युत प्रकाश मौर्य - vidyutp@gmail.com 

(CHANDNI CAHAWK, OLD DELHI) 

No comments:

Post a Comment