Wednesday, December 23, 2020

बिहार का एक नैरो गेज - फतुहा-इस्लामपुर लाइट रेलवे की याद


फतुहा इस्लामपुर लाइट रेलवे बिहार के पटना जिले में चलने वाली एक नैरो गेज रेल सेवा थी। करीब छह दशक तक इसने लोगों को सेवाएं दीं। सन 1922 में शुरू हुई ये रेल सेवा 1987 में बंद हुई। इस्लामपुर की तरफ से सस्ते में राजधानी पटना की तरफ  आने  के लिए लोग इस सेवा का खूब इस्तेमाल करते थे। 

मार्टिन एंड कंपनी आरा सासाराम लाइट रेलवे के अलावा बिहार में दो और रेल सेवाओं का संचालन करती थी। ये थे पटना जिले में बख्तियारपुर बिहार शरीफ लाइट रेलवे और फतुहा इस्लामपुर लाइट रेलवे। बख्तियारपुर से बिहार शरीफ लाइट रेलवे को कंपनी ने 1902 में आरंभ किया था। बाद में इस लाइन का विस्तार राजगीर तक हुआ। यह लाइन 1962 में ही ब्राड गेज में बदल दिया गया। पर फतुहा इस्लामपुर लाइट रेलवे का संचालन अस्सी के दशक में भी होता रहा।


1922 में शुरू हुआ सफर – मार्टिन एंड कंपनी द्वारा संचालित फतुहा इस्लामपुर लाइट रेलवे पर यात्री संचालन 1922 में आरंभ हुआ था। यह मार्टिन के बाकी रेल नेटवर्क की तुलना में छोटी दूरी का नेटवर्क हुआ करता था। यह कुल 40 मील यानी 64 किलोमीटर की रेल सेवा थी। पूरी रेलवे लाइन सड़क के समांतर चलती थी।

यह रेलवे लाइन तब ईस्ट इंडियन रेलवे यानी नई दिल्ली कोलकाता मेन लाइन के ब्राड गेज नेटवर्क के स्टेशन फतुहा से शुरू होती थी। फतुहा पटना शहर से थोड़ा आगे का छोटा सा रेलवे स्टेशन हुआ करता था। डिस्ट्रिक्ट बोर्ड पटना से सहयोग से मार्टिन एंड कंपनी ने इस रेलवे लाइन की शुरुआत की थी।



इस्लामपुर बिहार के नालंदा जिले का एक छोटा सा कस्बा है। यह राजधानी पटना से 65 किलोमीटर दूर है। यह तब छोटा सा ग्रामीण इलाका था। अब नगर पंचायत का दर्जा प्राप्त कर चुका है। मूल रूप से ये कृषि प्रधान क्षेत्र है।    इलाके के लोग धान की खेती  प्रमुखता से करते हैं। 


ढाई फीट की पटरियां - फतुहा इस्लामपुर लाइट रेलवे  2 फीट 6 ईंच  की पटरियों वाली नैरो गेज रेल सेवा थी। शुरुआती दौर में इस लाइन पर मैनिंग वार्डेल, लीड्स द्वारा निर्मित 0-6-2टी लोकोमोटिव का इस्तेमाल किया जाता था। मार्टिन के बिहार में संचालित होने वाले दूसरे नेटवर्क भी दो फीट 6 ईंच की पटरियों वाले ही थे। 

सन 1915 में बनी कंपनी - फतुहा इस्लामपुर लाइट रेलवे के लिए 5 सितंबर 1915 को कंपनी का गठन हुआ। तब इसकी मूलभूत पूंजी 12 लाख रुपये रखी गई थी। इसका पंजीकृत कार्यालय कोलकाता में ही था। पर क्षेत्रीय कार्यालय पटना से इसकी देखरेख की जाती थी।   इसके 64 किलोमीटर के मार्ग में फतुहा के बाद दनियांवा, हिलसा, एंकगर सराय प्रमुख रेलवे स्टेशन हुआ करते थे। 

1987 तक चली रेल शुरुआती दौर में यह मार्टिन के लिए फायदे का रेल नेटवर्क था। पर लगातार घाटे के बाद 1987 में यह रेलवे लाइन बंद करनी पड़ी। पर इसका संचालन आरा सासाराम लाइट रेलवे के दस साल बाद तक होता रहा। इस्लामपुर के आसपास के गांव के बुजुर्ग लोग नन्ही पटरियों पर इस सफर को याद करते हैं।

भारतीय रेलवे ने किया अधिग्रहण - साल 1987 में इस लाइन का अधिग्रहण भारतीय रेलवे ने कर लिया। फतुहा-इस्‍लामपुर लाइट रेल   लाइन (राष्‍ट्रीयकरण) अधिनियम, 1985   के तहत इसका अधिग्रहण किया गया। आखिरी दिनों में ये रेलवे लाइन काफी जीर्ण-शीर्ण हालात में पहुंच गई थी। रेलवे ने जहां है जैसे है के हालात में इसका अधिग्रहण किया।

इस लाइन पर ब्राडगेज की पटरियां बिछाई गईं। इसका  मार्ग करीब करीब वही रखा गया जो नैरो गेज लाइन का हुआ करता था। इसके बाद दिल्ली से पटना जाने मगध एक्सप्रेस का विस्तार इस्लामपुर रेलवे स्टेशन तक किया गया। अब यह लाइन विद्युतीकृत भी हो चुकी है। आजकल इस्लामपुर से दिल्ली और इस्लामपुर से झारखंड की राजधानी रांची के लिए सीधी ट्रेनों का संचालन किया जाता है।



 फतुहा इस्लामपुर लाइट रेलवे की सुनहरी यादें -

पटना के निवासी दिलीप आर्य लिखते हैं - ये हमारे घर से 9 किलोमीटर की दूरी पर है। वे कहते हैं कि 1945 से 1975 के दौर में हम शौक से इस पर चढ़ने जाते थे। यह रेल इतनी धीमी चलती थी कि इस पर हम चलते हुए चढ़ और उतर जाते थे। कुल 50 पैसे के टिकट में दनियामा तक जाते थे। वहां से बेटिकट ही वापस चले आते थे।

 एकंगर  सराय के रहने वाले   मनीष कुमार भारद्वाज लिखते हैं – यह रेलवे लाइन हमारे घर से एक किलोमीटर की दूरी पर है। मेरी मां इस ट्रेन की कहानियां सुनाती रहती हैं। उनके पास इस मार्ग पर चलने वाले ट्रेनों का नाम और दूसरी और भी जानकारियां है।


फतुहा इस्लामपुर लाइट रेलवे का सफरनामा 

1915 में मार्टिन ने कंपनी का गठन किया

1922 में शुरू हुई रेल सेवा

1987 में नैरो गेज का सफर रुक गया

-         विद्युत प्रकाश मौर्य -  vidyutp@gmail.com

( FUTWAH ISLAMPUR LIGHT RAILWAY, MANNING WARDLE, LEEDS LOCOMOTIVE, NARROW GAUGE  )

REFERENCE- 

https://economictimes.indiatimes.com/company/futwah-islampur-light-railway-co-ltd-/U45204WB1915PLC002635

https://www.latestlaws.com/bare-acts/hindi-acts/50980/

https://www.jagran.com/bihar/nalanda-railways-big-gift-to-the-people-of-islampur-in-the-new-year-19882424.html


No comments:

Post a Comment