Friday, July 10, 2020

पटनी टॉप पार्क की सैर और बुलबुल का बच्चा


आइए साहब आपको बुलबुल का बच्चा दिखाता हूं। नन्हा सा खरगोश दिखाता हूं। इस तरह की आवाज लगाकर बुलाने वाले लोग आपको पटनी टॉप के नाग मंदिर के आसपास खूब मिल जाएंगे। आखिर के बुलबुल का बच्चा क्या है। हमारे चालक महोदय ने मना किया था कि इस तरह बुलाने वालों के चक्कर में मत पड़िएगा। दरअसल ये लोग हैंडीक्राफ्ट के दुकान वाले होते हैं। ये लोग आपको आसपास में निर्मित होने वाले कंबल, रजाई और शॉल की दुकानों में ले जाते हैं।

आमतौर पर ये एक सामान नहीं बेचते हैं। काफी चीजें दिखाने के बाद ये आपको आठ से 10 हजार के पैकेज में कई उत्पाद बेचने की बात करते हैं। वे मनी बैक गारंटी जैसी बात करते हैं। आपके पास पैसे नहीं हैं तो वे क्रेडिट डेबिट कार्ड भी स्वीकार करते हैं। या आप आर्डर करें और ये लोग सामान पार्सल से आपके घर के पते पर भेज देते हैं। चालक महोदय के मना करने के बावजूद हमलोग दो दुकानों में उनके उत्पाद देखने चले गए। हालांकि देखने के बाद कुछ खरीदा नहीं।

पटनी टॉप में क्या देखें आप पटनी टॉप में नाग मंदिर के अलावा यहां पर नए नए बने रोपवे से प्रकृति का नजारा भी कर सकते हैं। हालांकि रोपवे का सफर थोड़ा सा महंगा है। इसके अलावा कई पार्कों में सैर कर सकते हैं। इसके आगे चाहें तो नत्था टॉप और सनासर लेक और शुद्ध महादेव के मंदिर तक जा सकते हैं।

पडोरा हटमिंट्स - तो पटनी टॉप में हमारी अगली मंजिल है पडोरा हटमिंटस। ये पडोरा हटिमंट विशाल पार्क में बने ब्रिटिश कालीन आवासीय कॉटेज हैं। इनमें रहने का किराया 3500 से लेकर 10 हजार रुपये प्रतिदिन तक है। ये जम्मू कश्मीर पर्यटन के अंतर्गत आता है। इसकी ऑनलाइन और ऑन द स्पॉट बुकिंग भी संभव है। देवदार के वन और पार्क के बीच बने ये कॉटेज बड़े सुंदर लगते हैं।

यहां बने विशाल पार्क में आप घुड़सवारी का आनंद उठा सकते हैं। ये घोड़े वाले आपको एपल गार्डन, व्यू प्वाइंट, फ्लावर गार्डन, शिव घाटी, वाटर फॉल, उधमपुर जिले की सीमा और कश्मीर घाटी का नजारा कराते हैं। अभी मंदी चल रही है इसलिए तमाम घोड़े वाले हमारे पीछे पड़े हैं जो आधी दरों में ही सैर कराने को तैयार हैं।

पार्क में उनी वस्त्रों की दुकानें भी सजी हुई हैं। आप मोलभाव करके कुछ खरीद सकते हैं। हमने घुड़सवारी नहीं की तो क्या हुआ निशानेबाजी तो कर ली जाए। तो आनादि ने निशानेबाजी पर अपना जोर आजमाया। उनके कुछ निशाने सही भी लगे। यहां पर आप जीप लाइन रोपवे से क्रास वैली का मजा भी ले सकते हैं।




पडोरा हटमिंट के बाद हमलोग एक किलोमीटर आगे स्थित दूसरे पार्क ती तरफ चल पड़े हैं। यहां भी घोड़े वाले मौजूद हैं। इस पटनी टॉप पार्क के आसपास आप साइकिल किराये पर लेकर भी आसपास की सैर कर सकते हैं। यहां चौड़े टायर वाली साइकिलें भी किराये पर मिलती हैं। यहां पर सस्ती दरों पर स्थानीय सेब भी खरीदकर खा सकते हैं। खाने में भुट्टे भी मिल रहे हैं। मैं भला भुट्टे न खाउं ऐसा कैसे हो सकता है।

सीड प्रोडक्शन एरिया – पटनी टॉप के आसपास दूर दूर तक घने देवदार के पेड़ नजर आते हैं। यहां पर वन विभाग की ओर सीड प्रोडक्शन एरिया को संरक्षित किया गया है। यहां पर देवदार के बीच का उत्पादन किया जाता है। ताकि आगे भी जंगलों को संरक्षित किया जा सके।

पटनी टॉप रोपवे – पटनी टॉप में रोपवे पर सवारी का मजा लेते हुए कुदरत का नजारा कर सकते हैं। ये रोपवे पटनी टॉप से चेनानी के बीच बना हुआ है। फिलहाल यह देश के सबसे ऊंचे रोपवे होने का दावा करता है। रोपवे का एक व्यक्ति का टिकट 1200 रुपये के आसपास है। पर ऑफ सीजन में इसमें कुछ ऑफर भी रहते हैं।
-        विद्युत प्रकाश मौर्य – vidyutp@gmal.com
-        ( PATNI TOP PARK, PADORA HATMINTS, J&K TOURISM, HORSE RIDING )



2 comments:

  1. सर आज की सारी पोस्ट का आनंद किरकिरा हो गया , आप अपने विज्ञापनों के स्थान की सेटिंग को पोस्ट के बीच से हटा सकेंगे तो पाठक पढ़ भी पाएंगे ठीक से | आपके लिखे हर पैराग्राफ के ठीक ऊपर चमकते विज्ञापन ने पढ़ने ही नहीं दिया | एक दूसरी बात ये भी कि आपके ब्लॉग पर हिंदी में टिप्पणी करने में कठिनाई होती है |

    ReplyDelete
    Replies
    1. धनयवाद , कोशिश करता हूं पर हिंदी टाइपिंग में कहां दिक्कत है

      Delete