Thursday, July 2, 2020

देश की सबसे लंबी चेनानी नाशरी सुरंग और फिल्म जानी दुश्मन


थोड़ी सी पेट पूजा के बाद हमलोग आगे चल पड़े हैं। हम चेनानी पहुंच गए हैं। जम्मू श्रीनगर हाईवे पर यहां सुंरग का निर्माण किया गया है। यह सुरंग तकरीबन साढ़े नौ किलोमीटर लंबी है।

प्रधानमंत्री ने 2 अप्रैल 2017 को चेनानी नाशरी सुरंग का उदघाटन किया जिसकी कुल लंबाई 9.28 किलोमीटर है। इसका आधिकारिक नाम श्यामा प्रसाद मुखर्जी टनेल दिया गया है। यह एनएच 44 पर बनी दो लेन वाली सुरंग है। इसका निर्माण प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के कार्यकाल में 2011 में शुरू हुआ था। इस नौ किलोमीटर से कुछ ज्यादा लंबी सुरंग ने जम्मू श्रीनगर के बीच की दूरी 30 किलोमीटर से ज्यादा कम कर दी है।

दो घंटे यात्रा का समय कम हुआ - इससे जम्मू श्रीनगर की यात्रा में लगने वाले समय में दो घंटे की कटौती हुई है। सबसे बड़ा लाभ है कि बर्फबारी के दौरान जब पत्नी टॉप के आसपास के इलाकों में जम्मू श्रीनगर हाईवे को बंद करना पड़ता था, अब उसकी जरूरत नहीं पड़ती। बर्फबारी या हिम स्खलन के समय वाहनों की लंबी लबीं कतारें लग जाती थीं। कई बार यात्रा दो दो दिन रोकनी पड़ती थी।

तकरीबन 1200 मीटर की ऊंचाई पर बनी चेनानी नाशरी सुरंग फिलहाल देश की सबसे लंबी सड़क मार्ग वाली सुरंग है। इसके निर्माण में 3720 करोड़ रुपये का खर्च आया था। सुरंग का व्यास 13 मीटर का है। इसके निर्माण में एकीकृत सुरंग प्रणाली का इस्तेमाल किया गया है। किसी भी तरह के खतरे से मुकाबले के लिए भी पूरे इंतजाम किए गए हैं। पर इस सुरंग के बन जाने से कूद, पटनी टॉप और बटोत जैसे कस्बे ऊपर रह गए हैं।  

हमारे चालक महोदय बता रह हैं कि यह सुरंग भी एक टूरिस्ट प्वाइंट बन गई है। काफी सैलानी टैक्सी से इस सुरंग को पार करने के लिए भी अतिरिक्त शुल्क अदा करते हैं। सुरंग से होकर जाने के लिए अलग से टोल टैक्स अदा करना पड़ता है। अगर आपको कूद और पटनी टॉप की ओर जाना है तो सुरंग से पहले से ही रास्ता अलग हो जाता है।

चेनानी से आगे श्रीनगर की तरफ जाने पर आपको बनिहाल में जवाहर सुरंग मिलती है। यह 2.85 किलोमीटर लंबी सुरंग है जिसका निर्माण 1956 में हुआ था। यह देश की आजादी के बाद बनी सबसे बड़ी और महत्वपूर्ण सुरंग थी।

जानी दुश्मन की शूटिंग हुई थी यहां - चेनानी का संबंध सन 1979 में मल्टी स्टार कास्ट वाली फिल्म जानी दुश्मन से भी है। हमारे चालक बिट्टू शर्मा जी बताते हैं कि पूरी फिल्म की शूटिंग चेनानी गांव में ही हुई थी। सुमधुर गीतों से सजी ये फिल्म सुपर हिट रही थी। इसमें संजीव कुमार, विनोद मेहरा, जीतेंद्र, सुनील दत्त, शत्रुघ्न सिन्हा, रेखा, रीना राय जैसे तमाम बड़े सितारे थे।

इस फिल्म का गाना – चलो रे डोली उठाओ कहार, पिया मिलन की रूत आई....काफी हिट रहा है। आज भी यह शादी समारोह में बजता है। एक रुमानी गीत – देखा न सैंया हमार जैसा... भी खूब लोकप्रिय हुआ था। इस फिल्म की शूटिंग के लिए पूरी स्टार कास्ट जिसमें करीब 500 लोग शामिल थे, ने कई महीने तक चेनानी गांव में डेरा डाला था। फिल्म का निर्माण राज कुमार कोहली ने किया था।

पर उससे आगे की भी एक बात है कि इस फिल्म की कहानी एक लोककथा पर आधारित है। वह लोककथा जम्मू क्षेत्र के स्थानीय राजा की है। कहा जाता है कि वह राजा अपने प्रजा की हर नवविवाहिता को पहली रात अपने पास बुलाता था। उस अत्याचारी राजा की कहानी से फिल्म जानी दुश्मन की कथा की थीम प्रभावित थी।

पर जानी दुश्मन एक भुतहा फिल्म थी। बच्चों को देखना बिल्कुल मना था। सन 1979 में तीसरी कक्षा में था। बड़े होने पर मैंने ये फिल्म देखी थी। आप भी इस फिल्म को देखें आपको उधमपुर जिले के चेनानी गांव के आसपास के नजारे दिखाई देंगे। अब चेनानी उधमपुर जिले की तहसील बन गई है। अपने रीलीज के समय यह फिल्म जम्मू क्षेत्र में सुपर डुपर हिट रही थी।
-        विद्युत प्रकाश मौर्य – vidyutp@gmail.com
-        (CHENANI NASARI TUNNEL, JANI DUSHMAN MOVIE )
  


2 comments:

  1. बहुत ही रोचक पोस्ट है सर हमेशा की तरह जानकारियों से भरपूर | और जानी दुश्मन सिनेमा तो हमने भी जाने कितनी ही बार देखी मगर आज पता चला की इसकी शूटिंग यहॉं की गई थी | बहुत ही सुन्दर पोस्ट सर

    ReplyDelete
    Replies
    1. हां सर मुझे भी वहां गुजरते हुए पता चला

      Delete