Tuesday, January 21, 2020

हैवलॉक जैसा ही सुंदर है नील द्वीप


अंदमान आने वाले सैलानी हैवलॉक द्वीप जरूर जाना चाहते हैं। यह बड़ा ही सुंदर द्वीप है। पर जैसा हैवलॉक सुंदर है उसी तरह नील द्वीप भी अंदमान के सुंदर दर्शनीय स्थलों में से एक है। मैं अपनी पिछली यात्रा के क्रम में हैवलॉक द्वीप गया था। पर इस बार तारीखें स्पष्ट नहीं होने के कारण हैवलॉक जाने और आने का टिकट नहीं मिल पाया।

हमने सोचा हैवलॉक न सही तो नील द्वीप का दौरा किया जाए। पर ग्रीन ओसन और मैक्रूज की नील द्वीप जाने वाले सेवाओं की समय सारणी मेरी यात्रा से मैच नहीं हो पा रही थी। तो हमने सरकारी फेरी सेवा तलाश करने की सोची। इसके लिए मैं फिनिक्स बे स्थित सरकारी फेरी सेवा के बुकिंग दफ्तर गया। वह कई एकड़ में फैला हुआ विशाल परिसर है। यहां पर भारत भूमि में कोलकाता, चेन्नई, विशाखापत्तनम जाने के लिए जहाज के टिकट भी बुक होते हैं। वहीं अंदमान के अलग अलग द्वीप पर जाने के लिए टिकट भी बुक किए जाते हैं। पर ये सारी बुकिंग ऑनलाइन नहीं की जा सकी है। इसलिए आपको टिकटों के लिए इस दफ्तर में आना ही पड़ता है। हम साल 2019 में चारों तरफ डिजिटल इंडिया की बात कर रहे हैं पर यहां पर हम अभी काफी पीछे हैं।


बहुत सारे काउंटर यहां पर टिकट खरीदने के लिए तमाम काउंटर बने हुए हैं। मैं एक काउंटर पर जाकर नील द्वीप के टिकट के लिए बात करता हूं। काउंटर पर मौजूद मोहतरमा ने बताया कि कल का टिकट उपलब्ध नहीं है। हां टिकट की उपलब्धता बताने से पहले उन्होंने पूछा कि आप अंदमान के हो या मेनलैंड के। मेरे बताने पर की मेन लैंड का हूं उन्होंने ना में उत्तर दिया। मतलब स्टीमर की टिकटों में मेनलैंड और अंदमान के लोगों को कोटा निर्धारित है।
अलग अलग दरें – चाहे आपको कोलकाता या चेन्नई जाना हो या किसी अंदमान के ही द्वीप पर मेनलैंड के निवासी और अंदमान के लोगों के लिए टिकट की अलग अलग दरें निर्धारित हैं। इन दरों में तीन गुने का अंतर है। पर सारे लोग पहले सरकारी फेरी सेवा का टिकट पता करते हैं क्योंकि इसकी दरें निजी सेवा से काफी सस्ती है। जैसे नील का टिकट निजी क्रूज में 1200 है तो सरकारी फेरी में 500 के आसपास वहीं अंदमान वासियों के लिए तो यह 80 रुपये के आसपास ही है।  

नहीं मिल नील का टिकट – खैर हमें नील द्वीप का टिकट नहीं मिला। एक स्थानीय अंदमानी भाई से मुलाकात हुई। उन्होंने सलाह दी कि कल सुबह आठ बजे आप फेरी के समय पर यहां पहुंचिए, अगर कई अंदमान के लोग नहीं आएंगे तो आपको जहाज में जगह मिल जाएगी। पर मेरे साथ तीन लोग हैं।अगर जाने की जगह मिल गई और अगले दिन वापसी की नहीं मिली तो मेरी परेशानी बढ़ जाएगी। इसलिए ये सलाह व्यहारिक नहीं लगी। तो मैं वापस लौट आया। नील द्वीप की सैर फिर कभी सही।
नील द्वीप का नाम बदलकर अब शहीद द्वीप कर दिया गया है। यह पोर्ट ब्लेयर से 36 किलोमीटर उत्तर पूर्व दिशा में स्थित है। यह दक्षिण अंदमान में ही आता है। नील द्वीप पर हैवलॉक (स्वराज द्वीप ) की तरह की रहने के लिए कई होटल उपलब्ध हैं। यह बड़ा ही शांत द्वीप है। इसका सौंदर्य दुनिया भर के सैलानियों को लुभाता है।
-        विद्युत प्रकाश मौर्य – vidyutp@gmail.com
-        ( ANDAMAN , SHAHEED ISLAND )




4 comments: