Tuesday, December 17, 2019

डिगलीपुर गोलगप्पा, तंदूरी रोटी और इडली डोसा


डिगलीपुर की सड़क पर शाम को टहलते हुए सबसे पहले गोलगप्पा की दुकाने नजर आईं। गोलगप्पा 10 रुपये का आठ। यह तो दिल्ली से सस्ता है। तो क्यों न कुछ गोलगप्पे खा लिए जाएं। आंटी के बनाए गोलगप्पे अच्छे हैं।

रात को खाने के लिए डिगलीपुर में हमें ज्यादा शोध नहीं करना पड़ा। हमारे होटल कार्तिका इन से ठीक बगल में एक अच्छा होटल दिखाई दे गया। होटल को देखकर प्रतीत होता है कि नया ही खुला है। बाहर तंदूर लगा है अंदर बैठने का अच्छा इंतजाम है। यहां का खाना अच्छा है तो हमने किसी और जगह तलाश नहीं किया। जितने समय डिगलीपुर में रहे, यहीं पर भोजन के लिए पहुंचते रहे। उनके यहां हमें पीली दाल, तंदूरी रोटी और मिक्स वेजिटेबल सब्जी खाने को मिल गई। सबका का स्वाद भी अच्छा था। और हां वे वेज बिरयानी भी अच्छी बना रहे हैं। हालांकि ये होटल समिष निरामिष दोनों ही व्यंजन परोसता है। पर उनका रसोइया अच्छा है। हमें तो पोर्ट ब्लेयर से 300 किलोमीटर छोटे से नगर डिगलीपुर में इतने अच्छे भोजनालय की कोई खास उम्मीद भी नहीं थी।

हां इस रेस्टोरेंट का नाम है फूडीज। नाम भी आधुनिक रखा गया है। महानगरों की तर्ज पर। हर रोज हमारी इस होटल के प्रोपराइट से मुलाकात हो रही है। उनके घर में कोई शोक हो गया है तो धोती-कुरता और दंड धारण किए हैं। उन्हें अपने चाचा जी का अंतिम संस्कार करना है। बंगाली बाबू हैं प्रोपराइटर महोदय। उन्हें उम्मीद है डिगलीपुर को नया एयरपोर्ट मिलने जा रहा है। अंदमान ट्रंक रोड की हालत भी अगले कुछ साल में सुधर जाएगी तो डिगलीपुर ने वाले सैलानियों की संख्या में इजाफा होगा। उन्होंने आखिरी मुलाकात में मुझसे आग्रह किया कि आप दुबारा भी डिगलीपुर घूमने आएं। अपने मित्रों को भी यहां आने को प्रेरित करें। 
हालांकि डिगलीपुर में कुछ और फेमिली रेस्टोरेंट भी दिखाई दे रहे हैं। पर हम वहां खाने नहीं जा सके। हां डिगलीपुर के आसपास घूमने के लिए आप यहां पर मोटर बाइक किराये पर भी ले सकते हैं। मुझे डालफिन चौराहे के पास बाइक फॉर हायर के बोर्ड दिखाई देते हैं। यह बाइकर के लिए अच्छा विकल्प है।

सब्जी बाजार की रौनक - सुबह सुबह डिगलीपुर के सब्जी बाजार में भी जाने का समय निकाल लिया। स्थानीय तौर पर होने वाली सब्जियां यहां सस्ती हैं। खास तौर पर पके हुए केले और आम काफी सस्ते मिल रहे हैं। स्थानीय आम तो 20 रुपये किलो बिक रहा है। केले भी 15 से 30 रुपये दर्ज के भाव मिल रहे हैं। बाहर सड़क पर कई तरह के साग भी बिक रहे हैं। हालांकि आलू प्याज जैसी चीजें यहां बाहर से मंगानी पड़ती हैं। 

हां सब्जी बाजार में एक बड़ा हिस्सा मछली बाजार का भी है। कई किस्म की मछलियां बिक रही हैं। डिगलीपुर में एनडीको ब्रांड का दूध भी मिल जाता है। यह दिल्ली के मदर डेयरी जैसा ही ब्रांड है। डिगलपुर की सड़कों पर आम के पेड़ दिखाई दे रहे हैं। इनमें आम पक चुके हैं। मैं देख रहा हूं कि पके हुए आम जमीन पर गिर जा रहे हैं। एक ताजा पका हुआ आम तो मैं उठा भी लेता हूं।

एक सुबह का नास्ता हमने डिगलीपुर चौराहे पर दक्षिण भारतीय मंदिर के बगल में रेस्टोरेंट में किया। यहां सुबह सुबह इडली और मसाला डोसा मिल गया। यह डोसा छोटा है पर उसके हिसाब से ही दरें भी काफी सस्ती हैं। यहां नास्ते में पूरियां भी मिल रही हैं। पर इडली से अच्छा नास्ता कुछ भी नहीं...

No comments:

Post a Comment