Saturday, July 20, 2019

एक बार फिर भोपाल में – राजा भोज की नगरी

कई साल बाद दिल्ली से भोपाल की राह पर हूं। इस बार एक शादी का न्योता आया है। शादी भोपाल में है इसलिए जाने से इनकार नहीं कर सका। क्योंकि इसी बहाने भोपाल जाने का मौका मिल रहा है। मेरा आरक्षण हरिद्वार एलटीटी सुपर फास्ट एक्सप्रेस ट्रेन में है। यह ट्रेन निजामुद्दीन स्टेशन से रात 12.10 बजे चलती है। हरिद्वार से आकर ये निजामुद्दीन में आधे घंटे रुकने के बाद चलती है। इसलिए यह रात 12.10 में निजामुद्दीन से चल ही पड़ती है। दफ्तर का काम खत्म करके मैंने दफ्तर की कैब से निजामुद्दीन स्टेशन जाना तय किया। पर नोएडा सेक्टर 63 से रात 11 बजे निकलने के बाद एनएच 9 पर रात में भीषण जाम में फंस गया।

एनएच पर भीषण जाम 
जाम से निकलने की ड्राईवर ने पूरी कोशिश कर रहा था पर यूपी गेट तक काफी जाम था। लगा कि अब ट्रेन नहीं पकड़ पाउंगा। फिर क्या 1100 रुपये पानी में चले जाएंगे।

हाईवे पर जाम में धीरे धीरे सरकते हुए यूपी गेट पर 11.40 हो गए। पर यूपी गेट के बाद हमारी गाड़ी बीच में बने सुपरफास्ट लेन में चल पड़ी अब कोई जाम नहीं था। मैं 11.55 बजे निजामुद्दीन स्टेशन पर था। तेजी से दौड़ता अपनी ट्रेन की तरफ भागा। अपने कोच में अपनी सीट पर पहुंचा ही था कि ट्रेन चल पड़ी।

हरिद्वार एलटीटी एक्सप्रेस का के कोच बिल्कुल नए हैं। हमारे कंपार्टमेंट में सिर्फ दो यात्री हैं। ऐसा लग रहा है कि ट्रेन में नहीं बल्कि अपने घर में ही सो रहा हूं। आगरा और झांसी के बाद इस ट्रेन का ठहराव सीधे भोपाल में ही है। ट्रेन अपने नीयत समय पर सुबह 10.30 बजे भोपाल पहुंच गई। भोपाल रेलवे स्टेशन पर 1999 के बाद पहली बार बाहर निकल रहा हूं। वैसे तो इस बीच भोपाल से गुजरना कई बार हुआ है। मैं हमिदिया रोड वाली साइड में बाहर निकला हूं, क्योंकि हमने जो होटल बुक किया वह हमिदिया रोड पर ही है। हमिदिया रोड मतलब पुराने भोपाल का इलाका।


पर स्टेशन से बाहर निकलते ही सबसे पहले नास्ता। नास्ते में क्या। जाहिर है भोपाल में नास्ता तो पोहा ही होगा। दिल्ली की बनिस्पत भोपाल में ठंड कम है। मेरे कई कपड़े यहां के मौसम के लिए बेकार लग रहे हैं। होटल के कमरे में जाकर स्नान करके तैयार हो गया। शाम को मुझे एक शादी में जाना है तो दिन भर समय है भोपाल शहर घूमने के लिए। भोपाल के कई स्थलों को पहले से ही देख चुका हूं तो इस बार कुछ नए स्थलों को सूचीबद्ध किया है। पिछले 20 सालों में भोपाल काफी कुछ बदल चुका है। 

देश की सुंदर राजधानियों में से एक - 
पिछले 15 सालों से शिवराज सिंह चौहान की भाजपा सरकार के बाद अब राज्य में कांग्रेस सरकार की वापसी हो गई है। कमलनाथ मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री बन चुके हैं। सुंदरता की बात करें तो भोपाल देश के सुंदर राजधानी शहरों में से एक है। ताल तलैया के इस शहर में मेरी पहली मंजिल है जनजातीय संग्रहालय। इस संग्रहालय की दूरी हमिदिया रोड से पांच किलोमीटर है। मैं एक आटो रिक्शा वाले बात करता हूं। वे वाजिब दाम पर हमें संग्रहालय तक छोड़ने के लिए तैयार हो जाते हैं।
-        विद्युत प्रकाश मौर्य - vidyutp@gmail.com
( BHOPAL, MP, RAIL, HWR LTT AC EXPRESS ) 


No comments:

Post a Comment