Tuesday, January 15, 2019

शाकाहारी सैलानियों का स्वर्ग –मलेशिया का पेनांग

Featured post on IndiBlogger, the biggest community of Indian Bloggers

आप सैर सपाटा के लिए विदेश जाना चाहते हैं, पर आप चाहते हैं कि आपको वहां भी शाकाहारी भोजन मिल जाए, लोगों से संवाद करने में कोई परेशानी न हो और देखने के लिए ढेर सारे आकर्षण हों तो आपके लिए मलेशिया का पेनांग बेहतरीन स्थल हो सकता है। सिंगापुर की तरह पेनांग में भी एक लिटल इंडिया बसता है।  वैसे सैलानी जो प्रकृति के करीब जाना चाहते हैं यानी इको टूरिज्म का आनंद लेना चाहते हैं उनके लिए पेनांग अच्छी जगह हो सकती है।

पेनांग प्रांत के टूरिज्म मंत्री मि यो सून हिन कहते हैं कि आप सालों भर पेनांग आ सकते हैं। यहां कभी गर्म मौसम नहीं होता। अधिकतम तापमान 30-32 डिग्री से ज्यादा नहीं जाता है।

पेनांग का स्पाइस कनवेंशन सेंटर 

पेनांग में लंबे समुद्र तट के अलावा पर्वतीय क्षेत्र और सुंदर और वन आकर्षक ग्रामीण क्षेत्र देखे जा सकते हैं। आप यहां समंदर के बीच टापू पर बने रिजार्ट में अपना ठिकाना बना सकते हैं। तो जार्ज टाउन के प्राचीन इलाके के हेरिटेज होटलों में भी ठहर सकते हैं।

पेनांग में इतने सारे होटल बन चुके हैं कि यहां एक साथ लाखों पर्यटक आकर प्रकृति का आनंद ले सकते हैं। यहां दुनिया का विशालतम कन्वेंशन सेंटर बना है जो सोलर पावर से जगमता है। यहां एक साथ 16 हजार से ज्यादा लोग बैठक कर सकते हैं। बॉलीवुड स्टार अनिल कपूर और पूर्व राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम पेनांग जा चुके हैं।

शाकाहारियों के लिए बहार – पेनांग में जगह जगह शाकाहारी रेस्टोरेंट हैं। आपको यहां परंपरागत दक्षिण भारतीय थाली जो केले पत्ते पर परोसी जाती है मिल जाएगी। साथ ही यहां आपको उत्तर भारत का समोसा भी मिल जाएगा। पेनांग में बड़ी संख्या में तमिल लोग रहते हैं। सैकड़ो साल पहले गए तमिल परिवारों ने अपनी विरासत को बचा रखा है। वहीं पेनांग की सड़कों पर कई उत्तर भारतीय रेस्टोरेंट भी खुल गए हैं।   

विश्व विरासत शहर - जार्ज टाउन- साल 2008 में पेनांग के मुख्य शहर जार्ज टाउन को विश्व विरासत शहर का दर्जा मिला। सात लाख से ज्यादा आबादी वाल जार्ज टाउन मलेशिया का दूसरा सबसे बड़ा शहर है। 1786 में स्थापित यह शहर पूर्वी एशिया का पहला ब्रिटिश सेटलेमेंट शहर बना। 1957 में मलेशिया को ब्रिटेन से आजादी मिलने के बाद जार्ज टाउन शहर देश के आधुनिक इतिहास का प्रमुख गवाह बन गया। जार्ज टाउन की गलियों में घूमते हुए आप स्ट्रीट फूड का आनंद ले सकते हैं। साल 2010 में पेनांग को एशिया में रहने योग्य 10 बेहतरीन शहरों में चुना गया।

पेनांग हिल फनीकुल रेलवे – पेनांग में पहाड़ी पर चढ़ने के लिए फनीकुलर रेलवे का आनंद ले सकते हैं। इसका ट्रैक दो किलोमीटर है। फनीकुल रेलवे इस तरह की रेल होती है जो एक ट्रैक पर चढ़ती और उतरती है। इसे एक गरारी की सहायता से संचालित किया जाता है। पेनांग की यह रेल जार्ज टाउन इलाके में है जो 1923 से संचालन में है। इसका निर्माण ब्रिटिश काल में पहाड़ी से नजारे देखने के लिए कराया गया था।

मंदिर, मस्जिद और चर्च – मलेशिया के पेनांग प्रांत की आबादी 17 लाख के आसपास है। यह एक बहुलतावादी संस्कृति वाला प्रांत है। यहां पर मलय,चीनी और तमिल लोग बड़ी संख्या में रहते हैं। बड़ी संख्या में यहां पर इंडियन मलय लोग रहते हैं। ये वैसे लोग हैं जो कई पीढ़ियों पहले भारत से रोजी रोजगार की तलाश में वहां चले गए थे। इसलिए पेनांग में कई सारे मुरगन मंदिर ( भगवान कार्तिकेय ) का मंदिर है। भारत से बाहर दुनिया का सबसे बड़ा मुरगन मंदिर यहां स्थित हैं। उत्तर भारतीय लोगों ने यहां कुंज बिहारी मंदिर का भी निर्माण कराया है।

कैसे पहुंचे – पेनांग मलेशिया की राजधानी क्वालालंपुर से 4 घंटे के सड़क मार्ग की दूरी पर है। क्वालालंपुर, बैंकांग, सिंगापुर जैसे शहरों से पेनांग के लिए सीधी विमान सेवा है। अगर आप भारत से पेनांग जा रहे हैं तो सिंगापुर, बैंकाक के साथ पेनांग घूमने की योजना बना सकते हैं। सिंगापुर पेनांग जल मार्ग से पानी के जहाज से भी जाया जा सकता है।
जार्ज टाउन मलेशिया का हेरिटेज होटल, होटल पेंगा...

कितने दिन रूकें – पेनांग कन्वेंशन एंड एक्गबिशन ब्यूरो के सीईओ अश्विन गुनशेखरन कहते हैं कि पेनांग की खुशूब को महसूस करने के लिए आप 4 रातें और पांच दिन का कार्यक्रम बना सकते हैं। ठहरने खाने पीने के लिहाज से पेनांग यूरोपीय देशों की तुलना में सस्ता है। यहां एक आदमी के लिए चार दिनों का रहने खाने पीने का पैकेज 150 से 400 डॉलर तक का हो सकता है।

पेनांग ऐसा क्षेत्र है जहां परिवार के साथ कुछ दिन गुजारा जा सकता है। विवाह उत्सव का आयोजन किया जा सकता है या फिर हनीमून के लिए जाया जा सकता है। साल 2018 में मलेशिया सरकार ने भारतीय लोगों के लिए 15 दिनों के लिए वीजा फ्री कर रखा है।
जहां तक देखने और घूमने की बात है तो आप यहां 40 से ज्यादा पर्यटक स्थलों की सैर कर सकते हैं। संग्रहालय के अलावा यहां का नया आकर्षण मलेशिया का सबसे बड़ा डायनासोर पार्क है जहां 200 से ज्यादा डायनासोर से मुलाकात की जा सकती है। पेनांग में आप लंबे स्काईवाक से शहर का नजारा कर सकते हैं।



एजुकेशन और आईटी का हब - पेनांग पिछले कुछ दशक में मलेशिया का एजुकेशन हब बन चुका है। यहां 50 से ज्यादा प्राइवेट इंजिनयरिंग,मेडिकल और मैनेजमेंट के कॉलेज खुल चुके हैं। इसके साथ ही पेनांग में आईटी इंडस्ट्रिया भी आ चुकी हैं। दुनिया भर के कंप्यूटरों में लगने वाले इंटेल का प्रोसेसर पेनांग में ही बनता है।   

-        विद्युत प्रकाश मौर्य Email - vidyutp@gmail.com
-        ( ज्यादा जानकारी के लिए देखें - www.pceb.my )



No comments:

Post a Comment