Monday, May 28, 2018

कई शादियां कर सकते हैं भूटान के लोग

कई रोचक बातें हैं   भूटान   के बारे में। उनमें से एक यह की भूटान के लोग कई शादियां करते हैं। यह लंबे समय से चली आ रही परंपरा है। हालांंकि अब देश में नए कानून के तहत शादी का प्रमाण पत्र सिर्फ दो शादियों तक का ही मिलेगा। यानी कानून आदमी दो शादियां कर सकता है। बहु पत्नी प्रथा भूटान में कई दशक से चली आ रही है। फुंटशोलिंग से थिंपू जाते समय हमें जो टैक्सी ड्राईवर मिले थे, उन्होंने बताया कि उन्होंने दो शादियां कर रखी हैं। दोनो से उन्हे सात बच्चे हैं।  वे  अपनी दो  शादियां बड़े   गर्व से बता रहे थे।   पर हमारे अगले ड्राईवर की सिर्फ एक ही शादी है। उन्हें अपनी पत्नी से काफी प्रेम है इसलिए दूसरी शादी नहीं की।

बीवी अलग होकर मां  सकती है गुजारा भत्ता-  हालांकि पहली पत्नी के रहते हुए भूटानी कोई दूसरी शादी करता है तो पहली पत्नी उससे अलग रहने का फैसला ले सकती है। इसके लिए वह अदालत में जाकर गुजारा भत्ता मांग सकती है। यह भत्ता हैसियत के अनुसार मिलता है। पर यह कम से कम 600 रुपये मासिक तो होगा ही। पुनाखा में मिली एक भूटानी शादी शुदा महिला बताती हैं कि कई लोग दूसरी और के मुहब्बत में पड़ कर दूसरी शादी रचाते हैं। पर हम ऐसे पति को चाहें तो छोड़ सकते हैं और गुजारा भत्ता मांग सकते हैं। मतलब कि महिला अधिकारों के लेकर सरकार के नियम अब सख्त हुए हैं। इसलिए सरकार अब सिर्फ दो पत्नियों की इजाजत देती है। पर कोई भूटानी महिला अपने देश के बाहर के किसी नागरिक से शादी नहीं रचा सकती।

अनूठा है भूटान का पहनावा- भूटान के ज्यादातर नागरिक और राजघराने के लोग भूटाने पहनावे में ही नजर आते हैं। यहां के पुरुषों के पहनावा का नाम है गो (GHO) और महिलाओं के पहनावा का नाम है कीरा ( KIRA ) राजकीय सेवा में लगे हर कर्मचारी के राजकीय पहनावे में दफ्तर आना अनिवार्य है। यही नहीं अगर कोई आम आदमी सरकारी दफ्तर में अपने किसी काम से जाता है तो भी यही औपचारिक पहनावा में ही जाना जरूरी है।  जैसे आप बिजली ,पानी  का  बिल या हाउस टैक्स जमा करने जा रहे हैं तो भी  राजकीय परिधान जरूरी है। 



यहां तक की टैक्सी ड्राईवर, टूरिस्ट गाईड के लिए भी ये पहनावा जरूरी है। अगर आप राजकीय परिधान में नहीं हैं तो जुर्माना भरने के लिए तैयार रहिए।  महिलाएं तो ज्यादातर   औपचारिक परिधान में ही नजर आती हैं। हां पुरुष थोड़ी आजादी ले लेते हैं।  स्कूल यूनीफार्म की बात करें तो वह भी भूटानी परिधान  में ही होता है।  



अगर आप भूटान का परंपरागत परिधान यानी गो खरीदना चाहते हैं तो बाजार में रेडिमेड मिलता है। वहीं अगर कपड़ा खरीदकर सिलाई करवाना चाहते हैं  तो इसमें 3500 से अधिक खर्च आ जाता है। हमने  थिंपू शहर के एक दुकान में जाकर परिधान की दरों के बारे में पता लगाया। भूटान सालों भर ठंड रहती है इसलिए लोग ऊनी कपड़े का ही परिधान बनवाते हैं जो थोड़ा महंगा पड़ता है। 
विद्युत प्रकाश मौर्य - vidyutp@gmail.com


No comments:

Post a Comment