Thursday, April 19, 2018

लाचुंग घाटी में दोपहर का लंच और कटाव का सफर

युमथांग घाटी में कुछ घंटे गुजारने के बाद हमलोग वापसी की राह पर हैं। आप चाहें तो यहां से कुछ स्मृति चिन्हों की खरीददारी कर सकते हैं। जैसे बुद्ध मूर्ति या फिर नन्हा सा याक। वापसी में रास्ते में बर्फ धीरे धीरे कम होती जा रही है। कुछ दूर चलने के बाद लाचुंग का सेना का शिविर वाला इलाका आ गया है। 

हौले-हौले उतरते हुए हमारी दोपहर में वापसी लाचुंग उसी हिडेन वैली गेस्ट हाउस में। हमने अभी यहां का कमरा खाली नहीं किया है। हमारा दोपहर का लंच यहीं पर है। वापसी में ज्यादा इंतजार नहीं करना पड़ा। हमारा लंच तैयार है। दोपहर का खाना रात के खाने से बेहतर है। मीनू में फिर वही चावल, दाल, सब्जी, भूजिया और सलाद है। हां नॉन वेज खाने वालों के लिए अंडा करी भी है। हमने फटाफट खाना खा लिया। क्योंकि हमें बुलेरो वाले ड्राईवर इसके आगे कटाव भी दिखाने का वादा कर रहे हैं।

हम नहीं जा सके कटाव - खाने के बाद हमलोग कटाव की तरफ चल पड़े। होटल का कमरा खाली कर सामान गाड़ी में रख लिया है। कटाव युमथांग वैली के दूसरी तरफ है। लाचुंग से 28 किलोमीटर चीन (तिब्बत) बार्डर की तरफ। कोई 12 किलोमीटर से ज्यादा का सफर किया होगा कि सामने सिक्किम पुलिस की पूरी टीम मिली। वह रास्ते में बिजली की तार चोरी हो गई थी, उसकी जांच करने पहुंची थी। पर पुलिस अधिकारियों ने ड्राईवर से हमारे परमिट की जांच की। पुलिस वालों का कहना था कि आपके परमिट में सिर्फ लाचुंग वैली लिखा है, कटाव का जिक्र नहीं है इसलिए आपको यहीं से वापस जाना होगा। पुलिस ने हमसे पूछा किसी के पास ड्रोन कैमरा, सेटेलाइट फोन आदि तो नहीं है। हमने कहा नहीं। 
पुलिस का कहना था कि कुछ सैलानी इस क्षेत्र में ड्रोन कैमरा और सेटेलाइट फोन के साथ पकड़े जा चुके हैं। इसके साथ ही उन्होंने हमारे ड्राईवर महोदय का चालान भी कर दिया।
मैं अपनी सवारी की सलामती के लिए जिम्मेवार हूं- हमें रास्ते में एक साइन बोर्ड नजर आता है। इस पर ड्राईवरों के लिए रोमन हिंदी में कुछ हिदायतें लिखी हैं। इस पर लिखा है कि किस अनुशासन में सिक्किम के पहाड़ी क्षेत्रों में वाहन चलाना है। पहली लाइन है - मैं अपनी सवारी की सलामती के लिए जिम्मेवार हूं। वास्तव में ऐसे काम के निर्देश देश भर में लिखे जाने चाहिए।
लाचुंग से कटाव के रास्ते में। 

तो हम कटाव जा नहीं सके। अब हमारी कटाव के आधे रास्ते से वापसी हो गई। लाचुंग वैली के थाने में जाकर ड्राईवर महोदय को रिपोर्ट भी करनी पड़ी। यह सब देखकर लगा कि सिक्किम पुलिस के कामकाज का तरीका बड़ा नियमबद्ध और सख्त है। कई राज्यों की तरह कुछ ले दे कर निपटाने का रिवाज यहां पर बिल्कुल नहीं है।
पुलिसिया कार्रवाई से निपटने के बाद हमलोग वापसी की राह पर चल पड़े हैं। एक फिर उसी रास्ते पर जिससे आना हुआ था। पर लाचुंग घाटी छोड़ने का इरादा इतनी जल्दी नहीं हो रहा था। 
-        विद्युत प्रकाश मौर्य - vidyutp@gmail.com
(YUMTHNAG, ZIRO POINT, LACHUNG VALLY, KATAO, NORTH SIKKIM ) 

No comments:

Post a Comment