Saturday, April 14, 2018

युमथांग – बर्फ से ढकी फूलों की घाटी में

लाचुंग में सुबह 5 ही जग गया। नदी के किनारे टहलने निकल पड़ा। बर्फ से ढकी चोटियां चमक रही हैं। उनपर सूर्य की रोशनी पड़ने के साथ उनकी चमक और बढ़ जाती है। सुबह सुबह एक भूटिया महिला टैक्सी का इंतजार कर रही है। लाचुंग इलाके में भूटिया जनजाति के लोग सबसे ज्यादा हैं। वह मेरा फोन लेकर कुछ नंबर मिलाती है। थोड़ी कोशिश के बाद उसकी टैक्सी वाले बात हो गई। उसने कहा कि सुबह 4 बजे से ही आकर गंगटोक की तरफ जाने वाली टैक्सी का इंतजार कर रही है। पहाड़ों पर सीमित गाड़ियां होती हैं इसलिए यहां सफर करना भी कोई आसान काम नहीं होता। सुबह सुबह मुझे लाचुंग वैली का जूनियर हाई स्कूल नजर आता है। नदी के किनारे मुख्यमंत्री आवास योजना के तहत बना सुंदर सा घर नजर आता है। थोड़ा टहलने के बाद वापस अपने कमरे में आ जाता हूं। 
हमारे ड्राईवर साहब ने सुबह 6 बजे निकलने का समय दे रखा है। हमलोग ब्रश करके  तैयार हो गए। इतनी ठंड मेंस्नान का  तो कोई मतलब ही नहीं था। तो हमलोग चल पड़े हैं युमथांग वैली की ओर। युमथांग की दूरी लाचुंग से 24 किलोमीटर है। रास्ते में सेना का कैंप एरिया आया। कैंप एरिया को पार करने के बाद एक भूटिया महिला ने हमारे ड्राईवर से लिफ्ट मांगी हम तैयार नहीं हुए। बाद में पता चला कि उस महिला कि युमथांग में दुकान है, जहां हमारे नास्ते का प्रबंध था। हमने लिफ्ट नहीं दी पर वह महिला किसी और गाड़ी में लिफ्ट लेकर हमसे पहले पहुंच चुकी थी।
लाचुंग से युमथांग के रास्ते में ऊंची चढ़ाई है। थोड़ी देर में हमें सड़क के दोनों तरफ बर्फ के टुकड़े नजर आने लगे। पहले ये झाग के रुप में नजर आए। आगे बर्फ बढ़ती गई। युमथांग पहुंचने तक तो सारा रास्ता बर्फ से पटा पड़ा था। और अब हम हम श्वेत बर्फ की वादियों में पहुंच चुके हैं। युमथांग वैली 11700 फीट की ऊंचाई पर है। इसे वैली ऑफ फ्लावर्स भी कहते हैं। अप्रैल मई महीने में इस घाटी में लकदक फूल खिले रहते हैं।
हमलोग युमथांग घाटी में एक दुकान के आगे रुक गए हैं। यहीं पर हमें नास्ता में ब्रेड-जैम और चाय मिलती है। चिमनी में आग तापने का इंतजाम है। अगर आप और कुछ खाना चाहें तो चाउमीन, नूडल्स और मोमोज उपलब्ध हैं।

मजाक और शादी – मैं दुकान चलाने वाली महिला से उनकी जनजाति के बारे में जानना चाहता हूं। वे बताती हैं कि भूटिया हैं। मैं कहता हूं मुझे भूटिया लोग काफी अच्छे लगते हैं। वे बोलती हैं तो किसी भूटिया लड़की से शादी कर लो। पर मेरी तो शादी हो गई है। वे बोलती हैं मेरे भी तीन बच्चे हैं, पर मैं उन सबको छोड़कर तुमसे शादी करने को तैयार हूं। मैं कहता हूं नहीं ये ठीक नहीं होगा। पर मैं 13 साल के बेटे की ओर इशारा करता हूं, इनकी शादी किसी भूटिया लड़की से कर दूंगा। वे बताती हैं उनकी बेटी 15 साल की है। मैं कहता हूं ठीक है दो साल बड़ी चलेगी। तो अब वे मेरे बेटे को दामाद जी कहकर खातिर करने लगती हैं। मैं उन्हें बताता हूं कि हिंदी फिल्मों का हीरो डैनी भी भूटिया है। पर वे कहती हैं कि उन्हें डैनी पसंद नहीं। वह फिल्मों में ज्यादातर नकारात्मक भूमिकाएं ही करता है।
आगे के सफर के लिए हमने लांग बूट किराए पर ली। जैकेट तो हमारे पास पहले से ही थे। यहां चश्मा और दस्ताने भी किराये पर मिल रहे हैं। बूटों का किराया 50 रुपये प्रति जोड़ी है। अब हमलोग बढ़ चले हैं बर्फीली वादियों में।
-        विद्युत प्रकाश मौर्य
बर्फ में फंसी गाड़ी को निकालने के लिए धक्का लगाना पड़ा...
-