Tuesday, February 23, 2016

आदिवासी संस्कृति की झलक देखें डॉन बास्को म्युजियम में

मेघालय की राजधानी शिलांग में देखी जाने वाली जगहों में प्रमुख है डॉन बास्को म्युजियम। इस संग्रहालय में आप मानव विकास की झलक के साथ पूर्वोत्तर की आदिवासी संस्कृति को समझने की कोशिश कर सकते है। पूरे पूर्वोत्तर राज्यों में वहां की संस्कृति को समझने के लिए ये सबसे बेहतरीन संग्रहालय है। साल 1994 में संग्रहालय के निर्माण की नींव रखी गई। उसके बाद लगातार इसमें विस्तार हो रहा है। वैसे संग्रहालय का औपचारिक उदघाटन 5 मार्च 2010 को कांग्रेस की तत्कालीन अध्यक्ष सोनिया गांधी ने किया था। इस संग्रहालय का प्रबंधन काफी बेहतरीन है। यह एक सरकारी संग्रहालय है जिसका प्रबंधन कला और संस्कृति मंत्रालय करता है।

स्काई वाक से शिलांग का नजारा -   डॉन बास्को म्युजियम का भवन भी काफी कलात्मक बना हुआ है। यह कुल सात मंजिलों का है। इस भवन के पास एक लंबा स्काई वाक बना है। इस स्काई वाक से पूरे शिलांग शहर का बेहतरीन नजारा देख सकते हैं। 


इस संग्रहालय में कुल 17 दीर्घाएं हैं। इनमें आप पूर्वोत्तर के अलग अलग जनजातियों की रहन सहन की झांकियां देख सकते हैं।  मेघालय की गारो, खासी और जयंतिया जनजातियों के बारे में यहां जाना ही जा सकता है साथ ही पूरे पूर्वोत्तर के बारे में जानने और समझने के लिए ये एक बेहतरीन संग्रहालय है। 
कृषि गैलरी में पूर्वोत्तर की खेतीबाड़ी के बारे में जाना जा सकता है। इसके अलावा आर्ट, खानपान, बास्केटरी, एलकोव्स, वस्त्र और आभूषण, मछली पकड़ना और शिकार, मकान बनाने की शैली, पूर्वोत्तर की भाषाओं के बारे में भी आप अलग अलग गैलरियों में जाकर जान सकते हैं।

संग्रहालय का भवन भी विशाल है। डॉन बॉस्को म्यूजियम का अपना शोध और प्रकाशन का विभाग भी है। संग्रहालय के साथ ही राज्य का सेंट्रल लाइब्रेरी का परिसर भी है। यह म्युजिम लोगों से सहयोग की अपेक्षा रखता है। आप संग्रहालय को धन और संरक्षण योग्य सामग्री दान में दे सकते हैं। 
शिलांग शहर के मावलाई में स्थित इस संग्रहालय में आप एक छत के नीचे पूरे पूर्वोत्तर को बेहतर तरीके से देख समझ और महसूस कर सकते हैं। संग्रहालय को अच्छी तरह देखने के लिए कुछ घंटे का समय निकाल कर रखें। अगर आप कला संस्कृति से ज्यादा लगाव रखते हैं तो यहां सारा दिन दे सकते हैं। 

खुलने का समय - संग्रहालय सोमवार से शनिवार को सुबह 9 बजे से शाम 5.30 बजे तक खुला रहता है। रविवार को संग्रहालय बंद रहता है। प्रवेश टिकट  भारतीय नागरिकों के लिए 100 रुपये का है। विदेशी नागरिकों के लिए यह टिकट 200 रुपये का है। छात्रों को टिकट में 50 फीसदी की रियायत दी जाती है। इसके लिए परिचय पत्र होना आवश्यक है।

इंटर्नशिप का भी मौका -  संग्रहालय के बारे में  ज्यादा जानकारी के लिए संग्रहालय की वेबसाइट (http://www.dbcic.org ) पर भी जा सकते हैं। संग्रहालय कला में रुचि रखने वाले युवाओं कुछ समय के लिए अपने यहां इंटर्नशिप करने का भी मौका प्रदान करता है। इसके लिए संग्रहालय प्रशासन से संपर्क किया जा सकता है। 

- vidyutp@gmail.com
( MEGHALAYA, SHILLONG, DON BOSCO MUSEUM, TRIBAL CULTURE OF NORTH EAST )