Monday, January 18, 2016

काजी दोरजी - सिक्किम में लाए लोकतंत्र

काजी दोरजी को सिक्किम में जनतंत्र लाने का श्रेय जाता है। उन्हें सिक्किम में फादर ऑफ डेमोक्रेसी कहा जाता है। 10 नवंबर 1904 को जन्मे काजी दोरजी ने सिक्किम में राजतंत्र के खिलाफ बगावत का बिगुल फूंका था। अब सिक्किम विधानसभा परिसर में उनकी आदमकद प्रतिमा लगाकर उन्हें याद किया गया है। वे सिक्किम के पहले मुख्यमंत्री भी थे। काजी दोरजी का निधन 2007 में 28 जुलाई को हुआ।

सिक्किम हिन्दुस्तान का सबसे नया राज्य है। यह पुडुचेरी और गोवा के भी बाद भारत का हिस्सा बना। यह 1975 मे भारत का 22वां राज्य बना। इससे पहले सिक्किम में लंबे समय से राजतंत्र हुआ करता था। पर जनता राजा चोग्याल के शासन से त्रस्त थी। चोग्याल ने जनता के चुने हुए प्रतिनिधियों की उपेक्षा शुरू कर दी, तब राज्य के लोग नाराज हुए। हालांकि चोग्याल चाहता था कि उसका भूटान की तरह स्वतंत्र देश की तरह अस्तित्व बना रहे। पर सिक्किम की जनता हमेशा से विशाल भारतीय लोकतंत्र का हिस्सा बनना चाहती थी। वहीं भारत के लिए सिक्किम का सामरिक महत्व हैं क्योंकि यह तिब्बत जाने का पुराना मार्ग है और तिब्बत चीन के कब्जे में है।


वह 1975 का साल था जब सिक्किम की राजनीति में भयानक उथल पुथल शुरू हो गई थी। सिक्किम के प्रधानमंत्री काजी लेंदुप दोरजी ने आम जनता से राय मशविरा करने के बाद  16 अप्रैल 1975 को भारत सरकार से उचित कार्रवाई करने का अनुरोध किया। काजी दोरजी का अनुरोध था कि कार्रवाई तुरन्त की जानी चाहिए । भारत ने काजी  दोरजी के अनुरोध को स्वीकार किया और चोग्याल की पद की समाप्ति के लिए जनता की राय ली गई। हालांकि इस बीच चोग्याल ने विदेशी शक्तियों से संपर्क साधने की कोशिश की। पर जनता ने उसके संपर्क के सारे साधन ध्वस्त कर दिए। सिक्किम में क्रांति हो रही थी। पर इस क्रांति में कोई बड़ा खून खराबा नहीं हुआ।


16 मई 1975 को भारत सरकार ने एसके लाल को सिक्किम का गवर्नर ( राज्यपाल) बनाकर भेजा। इस तरह सिक्किम भारत का हिस्सा बन गया। इसी दिन काजी दोरजी को भी सिक्किम के पहले मुख्यमंत्री की शपथ दिलाई गई। इसके साथ ही राजधानी गंगटोक में तिरंगा लहराने लगा। वे अगले चार साल तक यानी 1979 तक सिक्किम के मुख्यमंत्री रहे। उसके बाद नर बहादुर भंडारी के हाथों में कमान आई। नर बहादुर भंडारी 1979 से 1984 फिर 1984 से 1994 तक सिक्किम के मुख्यमंत्री रहे।

पवन कुमार चामलिंग ने बना डाला रिकॉर्ड  - 12 दिसंबर 1994 को सिक्किम डेमोक्रेटिक फ्रंट के पवन कुमार चामलिंग के हाथ में सिक्किम की कमान आई।  चामलिंग ने 29 अप्रैल 2018 को ज्योति बसु का रिकॉड तोड़ दिया। पश्चिम बंगाल के पूर्व मुख्यमंत्री ज्योति बसु का 23 साल 137 दिन लगातार मुख्यमंत्री रहने का रिकॉर्ड था। पर चामलिंग ने  28 अप्रैल को ज्योति बसु के कार्यदिवस की बराबरी करने के बाद देश के किसी राज्य में सबसे ज्यादा समय तक मुख्यमंत्री बने रहने का रिकार्ड 67 साल की उम्र में बनाया। अब उनके इस रिकार्ड की बराबरी या तोड़ना किसी के लिए मुश्किल हो सकता है।

गंगटोक में चामलिंग की लोकप्रियता का आलम ये है कि वहां विपक्ष काफी कमजोर है। गंगटोक शहर के तमाम दुकानों  एसडीएफ के विशाल कैलेंडर लगे दिखाई देते हैं जिसमें चामलिंग की तस्वीरें लगी हैं। ये उनकी लोकप्रियता का परिचायक है कोई तानाशाही नहीं। दुकानदार सम्मान में उनकी तस्वीरों वाली कैलेंडर लगाते हैं।

22 सितंबर 1950 को जन्मे पवन कुमार चामलिंग नेतासामाजिक कार्यकर्ताकवि और लेखक हैं। चामलिंग 1973 में ही सक्रिय राजनीति में आ गए थे। पर वे 1985 में पहली बार सिक्किम विधानसभा के सदस्य चुने गए। वे राज्य में 1989 से 1992 तक वह उद्योगसूचना एवं जन संपर्क मंत्री रहे। चार मार्च, 1993 को सिक्किम डेमोक्रेटिक फ्रंट की स्थापना करने के बाद 12 दिसंबर 1994 में वह सिक्किम के मुख्यमंत्री बने। 
नेपाली समाज से आने वाले चामलिंग की संगीतकार भी हैं। उनके परिवार में आठ बच्चे हैं। अब सिक्किम को आरगेनिक स्टेट बनाकर उन्होंने देश के इतिहास में एक नई इबारत भी लिख डाली है। 


सिक्किम विधान सभा - सिक्किम में कुल 32 विधानसभा क्षेत्र हैं। इसमें से 12 अनुसूचित जाति और जनजातीय आबादी के लिए आरक्षित हैं। राज्य की कुल आबादी सवा छह लाख है जिसमें 3.25 लाख मतदाता हैं। राज्य की कुल आबादी में 69 फीसदी नेपाली लोग हैं।
वहीं बाकी आबादी में भूटिया, तिब्बती और लेपचा प्रमुख रूप से आते हैं। सिक्किम का वर्तमान एसेंबली भवन नामनांग स्थित है। यह मार्च 1993 में बनकर तैयार हुआ। भवन को सिक्किम की वास्तुकला के हिसाब से बनाया गया है। यह तीन मंजिला है। दूर से देखने में यह किसी बड़े घर सा ही लगता है। इसके बगल में अब चिंतन भवन का निर्माण हुआ है जो विशाल बैठक कक्ष है। इसमें राज्य के प्रमुख राजकीय आयोजन होते हैं।
 - vidyutp@gmail.com

(QAZI DORJEE,  GANGTOK, DEMOCRACY, PAWAN KUMAR CHAMLING  )