Wednesday, July 22, 2015

फूल खिले हैं गुलशन गुलशन - रोज गार्डन चंडीगढ़

स्वतंत्र भारत की खूबसूरत रचना है चंडीगढ़ शहर। इस शहरों को फ्रेंच वास्तुविद ला कारबुजिए ने डिजाइन किया। तमाम बाते हैं जो शहर को खास बनाती हैं।

साल 2016 में इसके खास डिजाइन के कारण इसे विश्व विरासत स्थलों की सूची में यूनेस्को ने शामिल कर लिया है। खास तौर पर दो राज्यों पंजाब और हरियाणा राजधानी के भवनों की संरचना इसे नायब शहर बनाती है। 

सेक्टर 16 में है रोज गार्डन -  पर चंडीगढ़ शहर रॉक गार्डेन के अलावा रोज गार्डेन यानी गुलाबों के उद्यान के लिए भी जाना जाता है। गुलाबों का ये उद्यान चंडीगढ़ बस स्टैंड से थोड़ी दूरी पर ही सेक्टर 16 में स्थित है। खासकर वसंत के मौसम में यहां गुलाबों की क्यारियां जन्नत सा नजारा पेश करती हैं। 


रोज गार्डेन का नाम भारत के पूर्व राष्ट्रपति डॉक्टर जाकिर हुसैन के नाम पर जाकिर हुसैन रोज गार्डेन रखा गया है। इस उद्यान का निर्माण 1967 में कराया गया। यह सिटी ब्यूटीफूल की खूबसूरती में चार चांद लगाता है। यह एशिया का सबसे बड़ा गुलाबों का उद्यान माना जाता है। यहां पर गुलाब की 1600 से ज्यादा वेराइटी मौजूद है। यहां गुलाब के 17 हजार से ज्यादा पौधे लगाए गए हैं। आप देखते देखते और गिनते गिनते थक जाएंगे। पर वेराइटी खत्म होने का नाम नहीं लेगी। 


27 एकड़ में फैला है उद्यान - 
 ये उद्यान 27 एकड़ में फैला हुआ है। गुलाब उद्यान में कई प्राचीन किस्म के बड़े पेड़ भी हैं। उद्यान में कई औषधि महत्व वाले दरख्त भी लगाए गए हैं। हर साल फरवरी महीने में रोज गार्डन में उत्सव मनाया जाता है। तब वसंत की मादकता के साथ लाल गुलाब की सुंदरता चरम पर होती है। इस मौके पर आने वाले युवा उद्यान का सौंदर्य और बढ़ा देते हैं। उद्यान में आप गुलाब की कई ऐसी दुर्लभ किस्में भी देख सकते हैं जो आपने अभी तक नहीं देखी हों। अगर आप चंडीगढ़ जाएं तो थोडा वक्त फूलों के साथ गुजारने के लिए भी जरूर निकालें। किसी शायर ने कहा है-

जिंदगी है बहार फूलों की...दास्तां बेशुमार फूलों की...
तुम क्या आए तसवुर में..आई खूशबू हजार फूलों की

चंडीगढ का बस स्टैंड – देश के जितने भी बस स्टैंड मैंने देखे है उनमें चंडीगढ़ का बस स्टैंड काफी बेहतर है। कैंपस में रेस्टोरेंट, होटल, दुकानें, सैलून, टायलेट, पार्किंग सब कुछ। अब हालांकि देश के कुछ और शहरों के बस स्टैंड बेहतर बनाए गए हैं। पर चंडीगढ़ का बस स्डैंड काफी पहले से बेहतर है। पहली बार 1993 में चंडीगढ़ यात्रा में मैंने इस बस स्टैंड को देखा था। यहां से हरियाणा, हिमाचल और पंजाब के हर शहर के लिए बसें मिलती हैं। यहां आप बड़े आराम से इंतजार के कुछ घंटे गुजार सकते हैं।




चंडीगढ़ में कहां ठहरें - सिटी ब्यूटीफुल में वैसे तो ठहरने के लिए तमाम विकल्प हैं। पर अगर आप सस्ते मे ठहरना चाहते हैं तो सूद धर्मशाला से अच्छी कोई जगह नहीं है। सूद धर्मशाला कहने को धर्मशाला है पर यहां पर फेमिली रूम कूलर वाले कमरे और एसी रूम भी मौजूद है।

मध्यम वर्गीय लोगों के बीच लोकप्रिय होने के कारण यहां पर हमेशा हाउसफुल जैसी स्थिति रहती है। हालांकि कोई एडवांस बुकिंग नहीं होती। आपके मौके पर पहुंच ही कमरा उपलब्ध है या नहीं पूछना पड़ता है। मुझे यहां दो बार ठहरने का अवसर मिला है। दोनों के अनुभव अच्छे रहे हैं। धर्मशाला में नीचे एक अच्छा भोजनालय भी है। सूद धर्मशाला सेक्टर 22 में स्थित है। सूद धर्मशाला - SOOD DHARMSHALA-  फोन नंबर +(91)-9814704661 +(91)-172-2700223, 2703711, 4600223  किसान भवन के पास, सेक्टर 22 के मार्केट के पीछे से प्रवेश जन मार्गचंडीगढ़ 160022
वैसे चंडीगढ़ शहर हमें कई बार जाने का मौका मिला है। पर 2002 में परिवार के साथ शिमला से होते हुए हमलोग चंडीगढ़ पहुंचे थे तब सूद धर्मशाला में रुकना हुआ था। इससे पहले सन 2000 में मैंने राजेश सिंह राठौर के फ्लैट में रहकर एमएमसी की परीक्षा दी थी। पर  2002 में हमने चंडीगढ़ शहर की सैर खुली छत वाली बस से की थी। 

लग्जरी बस की खुली छत से चंडीगढ़ को देखने का आनंद कुछ और था। इस बस में दो गाइड भी थे, जो शहर के बारे में बताते थे। हालांकि बाद में ये बस सेवा बंद कर दी गई। फिर भी आज चंडीगढ़ जाएं तो रॉक गार्डन, रोज गार्डन, चंडीगढ़ का राजधानी का खूबसूरत इलाका और सेक्टर 17 का बाजार जरूर देखें। 

- विद्युत प्रकाश मौर्य - vidyutp@gmail.com 
( CHANDIGARH, ROSE GARDEN, SOOD DHARAMSHALA, SANGHOL, PUNJAB ) 

No comments:

Post a Comment