Sunday, March 1, 2015

सिलवासा - वनों और उद्यानों का शहर

दादरा नगर हवेली का वन गंगा उद्यान, 40 हिंदी फिल्मों की शूटिंग हो चुकी है यहां...
सिलवासा मतलब वनों और उद्यानों का शहर। एक दिन का पिकनिक मनाने के लिए आदर्श जगह हो सकती है सिलवासा। पर्यटन के नजरिए से बात करें तो  दादरा नगर हवेली में ताड़केश्वर शिव मंदिरवृंदावनखानवेल का हिरण पार्कवनगंगा झील और द्वीप उद्यान (दादरा) हिरवा वन विहार उद्यानलघु प्राणी विहारबाल उद्यानआदिवासी संग्रहालय के नाम प्रमुख हैं।


वन गंगा उद्यान में नौकायान -  दादरा नगर हवेली के प्रवेश द्वार से एक किलोमीटर आगे जाने पर ही आता है वन गंगा उद्यान। सुंदर झील के आसपास बने इस उद्यान में नौकायान का आनंद उठाया जा सकता है। वन गंगा दादर और नगर हवेली संघ राज्‍य क्षेत्र के प्रवेश द्वार के पास ही दादरा में स्थित है। इस उद्यान तक सिलवासा से 6 किलोमीटर चलकर पहुंचा जा सकता है।

उद्यान में प्रवेश के लिए 20 रुपये का टिकट है।  बोटिंग के लिए आधे घंटे वक्त का 90 रुपये देना पड़ता है। यह 7.58 हेक्‍टेयर के क्षेत्रफल में फैला है। यह उद्यान द्वीप के केन्‍द्र में बनाया गया है जो जापानी शैली के फूलों की क्यारियों से सजाया गया है। यहां का मुख्‍य आकर्षण पेड़ों की कतारोंनावोंझरनोंरेस्‍तरां और जॉगिंग पार्क है। कुछ रुपये खर्च करके यहां आप बोटिंग का आनंद ले सकते हैं। वैसे हर सोमवार को उद्यान बंद रहता है। 

कई हिंदी भोजपुरी फिल्मों की शूटिंग-  यहां आप बत्तखों और कछुओं को दाना भी डाल सकते हैं। निहायत गर्म मौसम में भी बाग में आकर शीतलता का एहसास होता है। यहां औसतन 4 लाख सैलानी को हर साल पहुंचते हैं। वन गंगा उद्यान हिंदी फिल्‍म के निर्माताओं के बीच अत्‍यंत लोकप्रिय है और यहां 40 से अधिक हिन्‍दी फिल्‍मों के गानों की शूटिंग हो चुकी है।


खासकर भोजपुरी फिल्म के निर्माताओं को सिलवासा में शूटिंग करना काफी पसंद आता है। सिलवासा की तरफ थोडा आगे चलें तो बायीं तरफ ही आता है हिरवा वन उद्यान। प्राकृतिक वन को यहां संरक्षित किया गया है। वन में कई तरह के पेड़ देखे जा सकते हैं। यहां तेज आवाज करते हुए झरने हैं जो सैलानियों का मनमोह लेते हैं।

शिशु उद्यान - सिलवासा के ऐतिहासिक टाउन हॉल के बगल में बच्चों के लिए शिशु उद्यान बना है। सचदेव बाल उद्यान दोपहर में 12 से 3 बजे तक बंद रहता है। उद्यान बहुत बड़ा नहीं हैं। बच्चों को लुभाने जैसा कुछ खास नहीं है इस उद्यान में। शिशु उद्यान के पास ही एक नया नक्षत्र उद्यान बनाया गया है। इसमें कई तरह के औषधीय वनस्पतियों को देखा जा सकता है। दादरा नगर हवेली के सभी उद्यानों की रखरखाव वन विभाग करता है।

कब जाएं  दादरा नगर हवेली में नवंबर से मार्च तक बहुत ही सुहावना मौसम होता है और यह समय यहां घूमने आने का सबसे अच्छा समय है। वैसे आप सिलवासा जाने का कार्यक्रम सालों भर कभी भी बना सकते हैं। समुद्र से नजदीकी के कारण सिलवासा में गर्मियों में भी तापमान बहुत ज्यादा नहीं होता और रातें बहुत सुहावनी होती हैं। अगर आप मुंबई से एक दिन के लिए सिलवासा जा रहे हैं तो सोमवार को न जाएं, क्योंकि यहां सोमवार को उद्यान और संग्रहालय बंद रहते हैं।
vidyutp@gmail.com ( DNH 2) 
( DADRA NAGAR HAWELI, SILWASA )

No comments:

Post a Comment