Wednesday, February 11, 2015

सतपुड़ा एक्सप्रेस का रोमांचक सफर



सतपुड़ा की हरी भरी वादियों के बीच नैरो गेज की पटरियों पर चलने वाली कई ट्रेनों के बीच सतपुड़ा एक्सप्रेस इस क्षेत्र की सबसे लोकप्रिय ट्रेन है। ये एक्सप्रेस ट्रेन सात घंटे में आपको जबलपुर से बालाघाट पहुंचा देती है। ट्रेन नंबर 10002 जबलपुर-बालाघाट सुबह 5.30 बजे चलने वाली ट्रेन दोपहर 12 बजे बालाघाट पहुंच जाती है। 
बालाघाट से वही रैक वापसी में चलती है जबलपुर के लिए 10001 सतपुड़ा एक्सप्रेस बनकर। बालाघाट से जबलपुर के बीच 187 किलोमीटर का सफर तय करती है सतपुड़ा एक्सप्रेस। आजकल सतपुड़ा एक्सप्रेस में जेडीएम सीरीज का लोको (इंजन) लगा हुआ है। अतीत में सतपुड़ा एक्सप्रेस जबलपुर से गोंदिया के बीच जेडई सीरीज के स्टीम लोको से संचालित होती थी। पर अब बालाघाट से गोंदिया के बीच ब्राडगेज लाइन बिछाए जाने के बाद जबलपुर से बालाघाट के बीच ही चलती है।

प्रथम श्रेणी का भी कोच -  इस नैरो गेज की एक्सप्रेस ट्रेन में कुल 10 कोच होते हैं। इसमें बीच में एक प्रथम श्रेणी का भी कोच लगा होता है। वास्तव में जिस कोच को फर्स्ट क्लास का डिब्बा बनाया गया है यह अतीत में अधिकारियों का इंस्पेक्सन कोच हुआ करता था। इसमें एक हिस्सा अधिकारियों का विश्रामालय था तो दूसरा हिस्सा रसोई घर। रसोई घर और विश्रामालय जाने के लिए अलग अलग दरवाजे होते थे। अब इनमें मामूली बदलाव कर यात्रियों के बैठने के लिए बना दिया गया है। लेकिन रसोई यान वाले हिस्से और मुख्य हिस्से के बीच अंदर से कोई संपर्क नहीं है।





सतपुड़ा एक्सप्रेस में प्रथम श्रेणी का किराया 400 रुपये है। इसके प्रथम श्रेणी में बैठकर आपको ऐसा एहसास होता है मानो आप किसी घर के ड्राइंग रूम में बैठकर सफर कर रहे हों। इस श्रेणी में सफर के लिए रेलवे की वेबसाइट पर अग्रिम आरक्षण कराया जा सकता है। वहीं द्वितीय श्रेणी में सतपुड़ा एक्सप्रेस में बालाघाट से जबलपुर का किराया 70 रुपये है। बालाघाट से जबलपुर के बीच कुल 24 मध्यवर्ती स्टेशन हैं पर सतपुड़ा एक्सप्रेस सिर्फ 9 स्टेशनों पर रुकती है। पर पहाड़ों की ये रानी ट्रेन आपको 27 से 30 किलोमीटर प्रतिघंटे की औसत रफ्तार में जबलपुर पहुंचाती है। अगर आप सतपुड़ा के घने जंगलों को देखने की तमन्ना रखते हैं तो सतपुड़ा एक्सप्रेस में बैठकर सफर करने से बेहतरीन तरीका और कुछ नहीं हो सकता है।



नर्मदा नदी पर ग्वारीघाट में पुल-  सतपुड़ा एक्सप्रेस जबलपुर से निकलने के बाद ग्वारीघाट में नर्मदा नदी पर बने पुल से गुजरती है। ये लोहे का पुल 100 साल से ज्यादा पुराना है जो आज भी पूरी तरह से बेहतर हालत में है।

बालाघाट मध्य प्रदेश का ऐसा जिला है जो महाराष्ट्र की सीमा से लगा हुआ है। शहर बिल्कुल शांत नजर आता है। रेलवे स्टेशन कभी शहर के बाहर हुआ करता था। पर अब स्टेशन के बाहर वाली सड़क पर चाय नास्ता की दुकानें और ठहरने के लिए लॉज आदि उपलब्ध है। बालाघाट छोटी लाइन और बड़ी लाइन दोनों का ही स्टेशन है पर स्टेशन पर ज्यादा भीड़भाड़ नजर नहीं आती। बालाघाट स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर एक पर कैंटीन है जिसे साफ सफाई और सज्जा के लिए रेलवे महाप्रबंधक की ओर से सम्मान पत्र मिल चुका है। इस कैंटीन में नास्ते के लिए 10 रुपये में पोहा और 5 रुपये प्रति पीस समोसे उपलब्ध हैं।

बालाघाट जंक्शन  बालाघाट जंक्शन का प्लेटफार्म नंबर एक नैरो गेज ट्रेन के लिए है, जबकि दो नंबर पर ब्राडगेज वाली ट्रेनें आती हैं। यहां से नैरो गेज पैसेंजर और एक्सप्रेस ट्रेनें आमतौर पर हर रोज समय पर खुलती हैं। स्टेशन पर रेलवे स्टाफ पूरे अनुशासन में दिखाई देते हैं।

समनपुर  सतपुड़ा एक्सप्रेस बालाघाट जंक्शन को छोड़ती है उसके बाद ही सतपुडा की हरी भरी वादियां मन मोहने लगती हैं। नदी, पहाड़, जंगल, खेत सब कुछ नजर आते हैं। कहीं कहीं रेलवे लाइन के साथ साथ सड़क भी कदमताल मिलाती नजर आती है। 17 वें किलोमीटर पर समनपुर रेलवे स्टेशन आता है जो सतपुड़ा एक्सप्रेस का पहला ठहराव है।



   
चारेगांव  30वें किलोमीटर पर चारेगांव रेलवे स्टेशन आता है। स्टेशन पर इन बीच के स्टेशनों पर बहुत बड़ी भीड़ चढती उतरती हुई नहीं दिखाई देती है। 

लामता  40वें किलोमीटर पर लामता रेलवे स्टेशन है। ये बालाघाट जिले का आखिरी बड़ा रेलवे स्टेशन है। बरसात के दिनों में अगर आप सातपुड़ा एक्सप्रेस के सफर पर हैं तो बारिश और हरियाली के बीच आनंद और भी बढ़ जाता है।

नगरवारा  357 मीटर की ऊंचाई पर स्थित नगरवारा रेलवे स्टेशन से मंडला जिले की शुरुआत हो जाती है। आप बालाघाट से 50 किलोमीटर की दूरी तय कर चुके हैं।

नैनपुर जंक्शन - बालाघाट से 77वें किलोमीटर पर नैनपुर जंक्शन आता है। यहां सतपुड़ा एक्सप्रेस 20 मिनट रुकती है। इस दौरान इसका लोको इंजन यहां कई बार बदला जाता है।

पिंडरई  समुद्र तल से 455 मीटर की ऊंचाई पर पिंडरई बालाघाट से 89वें किलोमीटर पर स्थित है। दूरी के लिहाज से ये बालाघाट और जबलपुर के बीच का स्टेशन हो सकता है।

घनसौर  565 मीटर की ऊंचाई पर बना ये नैरोगेज नेटवर्क के सबसे ऊंचे रेलवे स्टेशनों में से है सतपुड़ा एक्सप्रेस के मार्ग पर। घनसौर सिवनी जिले में पड़ता है।


शिकारा  सतपुड़ा एक्सप्रेस शाम को 5.40 के आसपास शिकारा पहुंचती है। ये जबलपुर से 45 किलोमीटर की दूरी पर और बालाघाट की तरफ से 133 किलोमीटर की दूरी है। कहा जाता है कि यहां घने जंगलों में कभी जबलपुर से लोग शिकार करने आते थे। इसलिए इस जगह का नाम शिकारा पड़ गया। आजकल भी यह जबलपुर के निकट का पिकनिक स्पाट है। शिकारा रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म पर नारियल के सुस्वादु लड्डू बिकते हुए नजर आए। नास्ते के लिए समोसे और जलेबी भी यहां मिल जाती है।

बरगी  बालाघाट से 159 किलोमीटर की दूरी पर बरगी जबलपुर जिले का रेलवे स्टेशन है। यहां पास में नर्मदा नदी पर बांध बनाया गया है। बरगी के बाद ग्वारीघाट में नर्मदा नदी पर ऐतिहासिक पुल आता है। यहां नदी के तट पर गुरुद्वारा और आश्रम बने हैं। बड़ी संख्या में लोग यहां नर्मदा में स्नान के लिए आते हैं।

हाउबाग जबलपुर  ग्वारीघाट के बाद ट्रेन जबलपुर शहर में प्रवेश कर जाती है। हाउबाग जबलपुर वास्तव में जबलपुर शहर में नैरो गेज का बड़ा स्टेशन है। यहां मालगोदाम और ट्रेन के रखरखाव आदि की सुविधा उपलब्ध है। वास्तव में हाउबाग नैरो गेज नेटवर्क का बड़ा डिपो है। जबलपुर शहर जाने वाले यात्री बड़ी संख्या में हाउबाग में ही उतर जाते हैं। यहां से बस स्टैंड और अन्य इलाके में जाने की सुविधा भी उपलब्ध है।

जबलपुर   सतपुड़ा एक्सप्रेस बड़ी ही शान से जबलपुर मुख्य रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर एक पर पहुंचती है। यहां वह रात भर आराम फरमाती है क्योंकि सुबह फिर उसी पुराने सफर पर जो निकल जाना है।

सतपुड़ा एक्सप्रेस के द्वितीय श्रेणी के कोच में बैठने के लिए कुल 44 सीटें हैं। सीटें आरामदायक हैं। हर कोच में टायलेट भी है। एक बैठने की सीट बिल्कुल टायलेट और कोच के प्रवेश द्वार के बीच बनाई गई है। कोच में लगेज रखने के लिए सीट के ऊपर प्रयाप्त जगह प्रदान की गई है।
सतपुडा एक्सप्रेस में शिकारा रेलवे स्टेशन पर जलपिहरी बेचते बच्चे। 
अरे ये जलपिहरी क्या है - शिकारा रेलवे स्टेशन पर सतपुड़ा एक्सप्रेस के प्लेटफार्म पर ट्रेन के पहुंचते ही ढेर सारे बच्चों का हुजुम हर कोच के पास पहुंच गया। ये बच्चे चिल्ला चिल्ला कर जलपिहरी बेच रहे थे। मैंने कौतुहल वश जानना चाहा कि ये जल पिहरी क्या है.. बच्चों ने बताया नदी से ढूंढकर निकालते हैं। एक किस्म की जडी बूटी है। इसकी तासीर गर्म है। तवे पर भून कर पानी या शहर के साथ खा लें। सर्दी जुकाम खत्म हो जाएगा। मैंने भी जलपिहरी खरीद ली। पांच रुपये में दो पुडिया। बाद में दूसरे बच्चे आए वे पांच में तीन देने की बात कहने लगे। तो हमारे सहयात्री ने तीन जलपिहरी खरीद ली। 

2 comments: