Tuesday, July 23, 2013

सतारा से कोपरगांव, महाराष्ट्र एक्सप्रेस से




इस यात्रा में पोरबंदर, द्वारका, सोमनाथ, दीव, अहमदाबाद, वडोदरा, मुंबई, महाबलेश्वर, पंचगनी, वाई के बाद हम चल पड़े साई बाबा के शहर शिरडी की ओर। कुछ घंटे सतारा के बस स्टैंड में गुजारने के बाद हमलोग एक आटो रिक्शा बुक करके रेलवे स्टेशन के लिए चल पड़े हैं। सतारा रेलवे स्टेशन यहां के बस स्टैंड से सात किलोमीटर आगे शहर के बाहर है। स्टेशन से बस स्टैंड के बीच सिटी बस सेवा चलती है। या फिर आरक्षित आटो रिक्शा से स्टेशन जाया जा सकता है। 
हमें टैक्सी ड्राईवर चंद्रकांत ने पहले ही बता दिया था कि सतारा रेलवे स्टेशन के आसपास एक भी दुकान नहीं है। वहां छोटे से स्टेशन भवन के अलावा कुछ भी नहीं। चारों तरफ हरे भरे खेतों के बीच महाराष्ट्र के एक जिला मुख्यालय का रेलवे स्टेशन। किसी सपनों के रेलवे स्टेशन सा लगता है। 


हालांकि सतारा रेलवे स्टेशन से होकर कई महत्वपूर्ण रेलगाड़ियां गुजरती हैं। कई बार यह स्टेशन किसी गांव के छोटे से स्टेशन सा लगता है। हो सकता है यहां रात को आप ट्रेन से उतरें तो आपके अलावा प्लेटफार्म पर कोई भी दूसरा यात्री न हो। लेकिन राहत की बात है कि आपको बाहर निकलने पर स्टेशन से शहर जाने के लिए ऑटो रिक्शा मिल जाएंगे। 

कृष्णा और वेणा नदियों का संगम है माउली में -  वास्तव में सतारा रेलवे स्टेशन शहर से सात किलोमीटर आगे माउली में पड़ता है। माउली में कृष्णा और वेणा नदियों का संगम भी है। महाबलेश्वर ने निकलने वाली पांच नदियो में से दो का यहीं पर संगम हो जाता है। इस संगम पर एक मंदिर और घाटों का निर्माण कराया गया है। यह संगम की सतारा का मुख्य दर्शनीय स्थल है।


सतारा रेलवे स्टेशन का कोड है- STR . रेलवे स्टेशन पर एक छोटी सी कैंटीन हैजहां से हमने समोसे खरीद कर खाए। रेलवे स्टेशन पर कुल दो ही प्लेटफार्म हैं। एक अप ट्रेनों के लिए दूसरी डाउन के लिए। सतारा रेलवे स्टेशन से हमारी ट्रेन शाम में थी। पर अंधेरा होने से पहले ही हमलोग सतारा रेलवे स्टेशन पहुंच गए हैं। फिर अगले कुछ घंटे रेलवे स्टेशन पर बैठकर हमें ट्रेन का इंतजार करना है। 

हमलोग महाराष्ट्र एक्सप्रेस से कोपरगांव जाने वाले हैं, जो शिरडी का निकटतम रेलवे स्टेशन है। यह ट्रेन 7.27 बजे आती है। सतारा में दो मिनट का ठहराव है।
 महाराष्ट्र एक्सप्रेस (11039) छत्रपति शाहू जी महाराज टर्मिनल कोल्हापुर से बनकर चलती है। यह मिरजसांगली, करड होती हुई सतारा पहुंचती है। इसके आगे पुणेदौंद होकर गोंदिया जंक्शन जाती है। अहमदनगर के बाद हमलोग कोपरगांव में उतर गए। पर आगे यह ट्रेन मनमाड जंक्शन. चालीसगांव, भुसावल, शेगांवअकोला, मुर्तुजापुर, बडनेरा, पुलगांव, वर्धा, सेवाग्राम, आर्वी, नागपुर, भंडारा होते हुए गोंदिया तक जाती है। हालांकि इस ट्रेन में केटरिंग सेवा नहीं है।

नीरा स्टेशन पर रात का डिनर - हमलोग रात में आठ बजे महाराष्ट्र एक्सप्रेस में सवार हो गए थे। पर अब समस्या थी रात के डिनर की। ट्रेन में तो केटरिंग सेवा थी नहीं। तो रास्ते एक सहयात्री की सलाह पर नीरा नामक एक छोटे से स्टेशन पर हमने खाना खरीदा। आईआरसीटीसी के वेंडर सौजन्य से ही महज 35 रुपये में खाना मिला। जैसा की सहयात्री महोदय ने बताया थाखाना शानदार था। कई बार एक मार्ग पर लगातार सफर करने वाले सहयात्रियों की सलाह काफी काम की होती है। हालांकि महाराष्ट्र एक्सप्रेस का पुणे में 15 मिनट का और दौंद जंक्शन में भी 15 मिनट का ठहराव है। पर पुणे आने से पहले हमलोग खा-पीकर सो गए थे।  

महाराष्ट्र के 50 फीसदी हिस्से में घूम जाती है ये ट्रेन -  इस ट्रेन का नाम यूं ही महाराष्ट्र एक्सप्रेस नहीं है। यह कोल्हापुर से गोंदिया के बीच चलते हुए महाराष्ट्र का 50 फीसदी से ज्यादा हिस्सा घूमते हुए जाती है। इसके रास्ते में कुल 1346 किलोमीटर के सफर में 62 ठहराव आते हैं। मतलब कुल 30 घंटे के सफर में यह ट्रेन एक तरह से महाराष्ट्र दर्शन है। किसी एक ही राज्य में सबसे लंबा सफर करने का श्रेय जाता है इस ट्रेन को। दूसरी बात इसके नाम को लेकर। जैसे केरल एक्सप्रेस, तेलंगाना एक्सप्रेस, आंध्रा एक्सप्रेस, कर्नाटक एक्सप्रेस देश की राजधानी दिल्ली से राज्य को जोड़ती हैं। पर महाराष्ट्र एक्सप्रेस तो महाराष्ट्र के अंदर ही चलती है। रेल रात में सरपट समय पर चल रही है। दौंड के बाद अहमदनगर और पुणातांबा जंक्शन जैसे ठहराव आए पर तब हमलोग सो रहे थे। 

शिरडी 16 किलोमीटर - सुबह के साढ़े चार बजे हैं और बाहर अभी अंधेरा छाया है। पर हमलोग कोपरगांव रेलवे स्टेशन पर उतर चुके हैं। यहां से शिरडी की दूरी 16 किलोमीटर है। बाहर अंधेरा है इसलिए थोड़ी देर प्लेटफार्म पर बैठने के बाद हमलोग स्टेशन से बाहर निकले तो देखा टाटा मैजिक वाले शिरडी के लिए आवाज लगा रहे हैं। अच्छी बात है कि यहां सभी मैजिक वाले नंबर से चलते हैं। दिल्ली की तरह सवारियों को जबरदस्ती अपनी तरफ नहीं खींचते। तो जिस मैजिक का नंबर है उसमें हमने जगह ले ली है। और चल पड़े हैं साईं दरबार की ओर। 

-         विद्युत प्रकाश मौर्य - vidyutp@gmail.com
((SATARA, MAHARASTRA EXPRESS, 11039, RAIL, NIRA, IRCTC, KOPARGAON, SHIRDI SAI NAGAR ) 
शिरडी - और पहुंच गए हमलोग साईं बाबा के दरबार में। 


2 comments: