Wednesday, July 24, 2013

शिरडी - साई बाबा के शहर में

उत्तर भारत से लेकर दक्षिण भारत तक शिरडी वाले साईं बाबा की बड़ी महिमा है। शिरडी आज देश विदेश के साईं बाबा के करोड़ो भक्तों के लिए पवित्र स्थान बन चुका है। साल का कोई ऐसा दिन नहीं होता है जब हजारों लोग शिरडी नहीं पहुंचते हों। गुरुवार को तो यहां भीड़ काफी बढ़ जाती है। अब दिल्ली, मुंबई, हैदराबाद आदि शहरों से शिरडी के लिए सीधी रेलगाड़ियां चलने लगी हैं। कभी वीरान गांव शिरडी आज बहुत बड़ा आस्था का स्थल बन चुका है। साई की महिमा के कारण ये वीरान सा गांव अब आबाद हो चुका है। वैसे शिरडी महाराष्ट्र के अहमदनगर जिले में राहटा तहसील के अंतर्गत आता है। शिरडी कभी छोटा सा गांव हुआ करता था। ये अहमदनगर मनमाड स्टेट हाईवे पर स्थित है। तो चलिए चलते हैं शिरडी वाले साई बाबा के पास...


सतारा से चलकर हमारी ट्रेन सुबह के 4 बजे कोपरगांव रेलवे स्टेशन पहुंची। बाहर अभी अंधेरा था। पर शिरडी जाने वाली टाटा मैजिक जैसी गाड़ियां आवाज लगा रही थीं। हम भी एक गाड़ी में बैठ गए। उजाला होने तक हम साईं बाबा के शहर में  पहुंच चुके थे। हमने पहले से तय कर रखा था कि हमें शिरडी में  साईं बाबा के दर्शन करने के बाद नासिक जाना है। इसलिए हमें यहां होटल लेने का कोई मतलब नहीं था।

शिरडी  में उतरते ही हमें मैजिक स्टैंड के पास कुछ एजेंट मिले। उनका प्रस्ताव था कि आप 300 रुपये में हमसे प्रसाद खरीदें तो हम आपको एक होटल में कुछ घंटे के लिए कमरा दिलाएंगे जहां आप स्नान आदि करके तैयार होकर मंदिर में दर्शन के लिए जा सकते हैं। प्रस्ताव सही था। वे हमें मंदिर के पीछे अब्दुल्ला की झोपड़ी के पास ले गए, वहां एक होटल में हम तैयार हुए। उसके बाद सामान कमरा खाली कर रिसेप्शन पर रखवा दिया। हालांकि 300 रुपये  में कमरा देने के बाद उन्होंने जो प्रसाद दिलवाया वह वैसे 100 रुपये में मिल जाता। सुबह-सुबह हमें भूख लगी थी इसलिए दर्शन से पहले पेट पूजा करने की सोची। तो साईं मंदिर के पीछे वाली गली में एक दुकान में मसाला डोसा , उपमा और इडली खाई। इन सबका स्वाद बेहतरीन था। 

कैसे पहुंचे - मनमाड पुणे लाइन पर कोपरगांव नामक छोटे से रेलवे स्टेशन से शिरडी की दूरी 15 किलोमीटर है। यहां से हर ट्रेन के पहुंचने बाद छोटी गाड़ियां शिरडी के लिए चलती रहती हैं। वैसे आप मनमाड उतर कर भी शिरडी जा सकते हैं। मनमाड बड़ा रेलवे स्टेशन है। यहां से शिरडी 80 किलोमीटर है। 




वैसे अब शिरडी भी रेल लिंक से जुड़ चुका है। मुंबई से रोज रात को 10.55 बजे शिरडी पैसेंजर खुलती है तो दादर से हफ्ते में तीन दिन शिरडी के लिए एक्सप्रेस ट्रेन भी है। अगर आप नासिक में हैं तो नासिक से भी बस और टैक्सी से शिरडी जा सकते हैं। नासिक से शिरडी कोई 90 किलोमीटर है। गरमियों में शिरडी का मौसम काफी गर्म रहता है। पानी की भी कमी रहती है। बेहतर होगा कि आप यहां सरदी के दिनों में जाएं। वैसे साईं भक्त तो यहां सालों भर आते रहते हैं।


कहां ठहरें - शिरडी में साईं भक्तों के लिए शिरडी ट्रस्ट की ओर बड़ी संख्या में आवासीय सुविधा का प्रावधान है। सामान रखने के लिए लॉकर भी बनाए गए हैं। आप साई ट्रस्ट में अपने आवास की एडवांस बुकिंग भी करा सकते हैं। वैसे शिरडी में बड़ी संख्या में प्राइवेट होटल भी हैं। हालांकि बड़ी संख्या में शिरडी पहुंचने वाले साईं भक्त यहां कुछ घंटे रूकने के बाद आसपास के तीर्थ स्थलों की ओर प्रस्थान कर जाते हैं। शिरडी पहुंचने वाले श्रद्धालु अक्सर शिंगणापुर स्थित शनि मंदिर और नासिक , त्रयंबकेश्वर आदि की यात्रा पर भी जाते हैं।
- विद्युत प्रकाश मौर्य - vidyutp@gmail.com 

Hotel SAI GEETA, Tazimkhan baba chauk, Dwarka mai Street,
SHIRDI.  Ashok 9850054337, Iswar – 9921773130
Hotel Sai DWAR, Tazimkhan Baba chawk, KD NAWAL - 9657123677, 9881678103
शिरडी का साई नगर रेलवे स्टेशन

2 comments:

  1. अति सुन्दर बहुत अछ्आ मागदशन है

    ReplyDelete