Monday, February 4, 2013

यात्रा पर निकलने से पहले जरूरी टिप्स

कोयंबटूर रेलवे स्टेशन पर अनादि। 
जब आप कभी यात्रा पर निकलें तो कुछ बातों का ज़रूर ध्यान रखें। अगर आप कुछ दिनों के लिए छुट्टी बिताने जा रहें हैं तो इसके लिए पैकिंग की एक चेक लिस्ट तैयार करें। नहीं तो आपको सफ़र में छोटी-छोटी बातों के लिए बड़ी राशि ख़र्च करनी पड़ सकती है या पछताना पड़ सकता है।

यात्रा पर जिस मार्ग में जाना हो उसका मानचित्र, गाइड, रेलवे टाइम टेबल, उसके इलाके के पूछ-ताछ संबंधी फोन नंबरों की सूची हमेशा अपने साथ रखें। ऐसी जानकारी पर कई पुस्तकें आप बाजार से खरीद सकते हैं या फिर पत्र-पत्रिकाओं में छपने वाले यात्रा विशेषांकों को अपने साथ रखें। आजकल आप इंटरनेट पर जाकर संबंधित राज्य या देश की वेबसाइट देखकर भी अपनी जानकारी मजबूत कर सकते हैं।

अनादि के साथ उटी की बारिश मं 
अगर आपके पास मोबाइल फaन हो तो अपना फोन साथ रखें साथ ही उसका स्पेस लोकेटर ऑन रखें। इससे आपका मोबाइल भी आपको जानकारी देगा कि आप कहां से गुज़र रहे हैं। यात्रा पर जाने से पहले अपने किसी खास दोस्त, परिचित या रिश्तेदार को अपने कार्यक्रम की जानकारी देकर रखें। यह भी बेहतर होगा कि यात्रा के दौरान हर रोज अपने किसी खास दोस्त मित्र या रिश्तेदार को अपनी लोकेशन और कुशल क्षेम अपडेट करते रहें। जिस राज्य में हों वहां का टूरिस्ट हेल्पलाइन नंबर, पुलिस हेल्पलाइन नंबर आदि याद रखें।

यात्रा का ज़रूरी सामानः  यात्रा में कभी भी बारिश आ सकती है। ख़ासकर मुंबई या शिमला, मनाली जैसे हिल स्टेशनों में। इसलिए छोटा-सा रेनकोट या छाता हमेशा अपने पास रखें। कई लोगों को अक्सर छोटी-मोटी बीमारियां होती हैं। आप अपनी संबद्ध दवाएं भी अपने साथ रखें। हिल स्टेशनों पर जाने वाले लोग स्वेटर, शॉल आदि भी घर से लेकर चलें अन्यथा वहां पर ये चीजें महंगे दामों पर ख़रीदनी पड़ सकती हैं। टॉर्च, कैमरे की बैटरी, बच्चों के कपड़े आदि साथ रखें। हमारे साथ दो बार ऐसा हुआ कि घर में छाता रहते हुए टूरिस्ट लोकेशन पर पहुंच कर बारिश के कारण हमें छाता खरीदना पड़ा।

उटी का होटल विनायगा इन। 
होटल की शर्तों को समझें - होटल में ठहरने से पहले उसकी शर्तों को ठीक तरह से समझ लें। भीड़-भाड़ के दिनों में पहले से ही होटल में आरक्षण कराकर चलें तो अच्छा होगा। अगर किसी हिल स्टेशन पर आपके विभाग की ओर से होटल या गेस्ट हाउस बनाया गया हो तो उसी में ठहरें।

खाने का मीनू चेक करें - किसी नई जगह में रेस्टोरेंट में खाने से पहले उसका मेन्यू पहले ही चेक कर लें। कहीं ऐसा न हो खाने के बाद बिल को लेकर आप ठगे जाएं। आपसे पहले संबंधित स्थान की अगर किसी ने यात्रा की हो तो उसकी सलाह ले लें। यह आपके बहुत काम आएगी। अगर आप सीज़न में यात्रा कर रहें हैं तो रेलगाड़ी में या विमान में वापसी का भी आरक्षण करा कर ही चलें।

ऑफ सीजन का लाभ उठाएं- कई टूरिस्ट प्लेसों की ऑफ़ सीज़न यात्रा भी आनंददायक होती है। अगर आप भीड़-भाड़ से बचना चाहते हैं तो ऑफ़ सीजन में यात्रा करें। हिल स्टेशनों पर आम तौर पर ऑफ सीजन में होटलों का किराया आधा हो जाता है। अगर आप दलालों से बच कर सीधे होटल वालों से बात कर लें तो अच्छा रहेगा।
यात्राओं के दौरान आप कहीं-कहीं अपने दोस्तों, मित्रों के रिश्तेदारों के घर रुकने का भी कार्यक्रम बना सकते हैं। ये इस पर निर्भर करता है कि आपके रिश्तदार मित्र कैसे हैं। यह ध्यान रखें कि आपकी मेहमानवाजी को वे बोझ न समझते हों।  
-विद्युत प्रकाश मौर्य - vidyutp@gmail.com 
( TRAVEL, UMBRELA, TORCH, MAP, HOTEL, RETURN TICKET SOUTH INDIA IN SEVENTEEN DAYS 77


No comments:

Post a Comment