Sunday, January 13, 2013

चल पड़े हम तिरुपति बालाजी के दरबार में


हमलोग बेंगलुरु में तीन दिन गुजारने के बाद अब तिरुपति के लिए चल पड़े हैं। हमने यशवंतपुर स्टेशन से तिरुपति की ट्रेन ली है। यह यशवंतपुर टाटानगर एक्सप्रेस ट्रेन है। रास्ते में कोलार जिले के बंगारापेट के बाद जोलारपेट जंक्शन स्टेशन आया। जोलारपेट तमिलनाडु में तिरुपत्तूर जिले में पड़ता है। यह रेलवे का प्रमुख स्टेशन है। इसके बाद काटपाडी जंक्शन फिर तिरुपति। हमारी ट्रेन के ठहराव कम हैं। ट्रेन में हमारे सामने वाली सीट पर पूर्णिया, बिहार के एक प्रोफेसर साहब सफर कर रहे हैं। वे काटपाडी जंक्शन में उतर गए। वे सीएमसी वेल्लोर में अपना उपचार कराने जा रहे हैं। काटपाडी रेलवे स्टेशन तमिलनाडु के वेल्लोर जिले में आता है, जबकि तिरूपति आंध्र प्रदेश में पड़ता है। काटपाडी के बाद आंध्र प्रदेश का चित्तूर जिला शुरू हो जाता है। पर हमारी ट्रेन चित्तूर में नहीं रूकी। जब हमलोग तिरुपति रेलवे स्टेशन पर उतरे तो बारिश हो रही थी।

दक्षिण भारत ही नहीं दुनिया का सबसे लोकप्रिय मंदिर है तिरुमला पहाड़ी पर स्थित तिरुपति बालाजी वेंकटेश्वर का मंदिर। बाला जी यानी भगवान वेंकटेश्वर। अब तक सबसे अमीर भगवान थे। लेकिन अब उन्ही के दूसरे रूप तिरुवनंतपुरम के पद्मनाभ स्वामी ने उन्हें टक्कर दे डाली है। लेकिन अभी रोज श्रद्धालुओं की आमद के हिसाब से दुनिया का सबसे बड़ा मंदिर है तिरुपति। तिरुपति बाला जी कुल संपत्ति 50 हजार करोड़ से भी ज्यादा है। तो पद्मनाभ स्वामी की करीब दो लाख करोड़।
तिरुपति के विष्णु निवास में ... तिरुमला जाने के लिए इंतजार 
तिरुपति पहुंचना बहुत आसान है। तिरुपति बहुत व्यस्त रेलवे स्टेशन है। तिरुपति आंध्र प्रदेश में है लेकिन तमिलनाडु की राजधानी चेन्नई से चार घंटे का रास्ता है। चेन्नई से तिरुपति 140 किलोमीटर तो बेंगलुरू से 300 किलोमीटर है वहीं हैदराबाद से 600 किलोमीटर के आसपास है। यानी सबसे आसान चेन्नई से पहुंचना है। तिरुपति के अलावा रेनुगुंटा नामक रेलवे स्टेशन भी पास में है। आप तिरुपति जाने के लिए तिरुपति या रेनुगुंटा किसी भी रेलवे स्टेशन पर उतर सकते हैं। हैदराबाद, चेन्नई और बेंगलुरू से तिरुपति जाने और लौटने के लिए पैकेज टूर भी बुक कराया जा सकता है। लेकिन ट्रेन से तिरुपति पहुंचना ज्यादा बेहतर है। बेंगलुरु से तिरुपति जाने के रास्ते में जोलारपेट और काटपाडी जंक्शन स्टेशन आते हैं। काटपाडी के पास प्रसिद्ध वेल्लोर शहर है जहां सीएमसी नामक प्रसिद्ध अस्पताल है। यहां पास में अब गोल्डेन टेंपल नामक लक्ष्मी जी का विशाल मंदिर भी बन चुका है।


तिरुपति रेलवे स्टेशन से बाहर निकलने पर आप सीधे
 विष्णु निवासम का रुख करें। ये स्टेशन के बिल्कुल सामने तिरुपति तिरुमला देवस्थानम ट्रस्ट द्वारा बनवाया गया कांप्लेक्स है। इस विशाल कांप्लेक्स में आवासीय सुविधा ( एसी नान एसी कमरे) निशुल्क टायलेट, स्नानागार, क्लॉक रुम, रेस्टोरेंट, फ्री डिस्पेंसरी, कलात्मक शापिंग के लिए दुकानें सब कुछ हैं।



अगर आप किसी और होटल में भी रहने जाना चाहते हैं, लेकिन अभी चेक इन का समय नहीं हुआ है, या जाने वाली ट्रेन का इंतजार करना है तो भी विष्णु निवास  में काफी वक्त गुजार सकते हैं। यहां अपने वाहन से आने वालों के लिए पार्किंग का भी इंतजाम है। इसी तरह का कांप्लेक्स श्रीनिवासम कांप्लेक्स नाम से तिरुपति बस स्टैंड के सामने भी है।


होटल मौर्य में मिली जगह -  जब हम तिरुपति रेलवे स्टेशन से निकलकर विष्णु निवासम पहुंचे तो वहां कोई कमरा खाली नहीं मिला। लेकिन वहां अपना सामान लॉकर में जमा कर पत्नी बेटे को वहीं छोड़कर मैं आसपास के होटलों में कमरा ढूंढने निकल पड़ा। विष्णु निवासम में आपको कमरा न भी मिले तो सामान लॉकर में जमा कर सकते हैं। टॉयलेट बाथरूम का इस्तेमाल कर सकते हैं। इसके गोविंदा कैंटीन में भोजन नास्ता कर सकते हैं। बरामदे में कहीं भी आराम फरमा सकते हैं। मेडिकल स्टोर से मर्ज बताकर मुफ्त में दवाएं भी ले सकते हैं।

खैर तलाश करते हुए हमें विष्णु निवासम के पास ही
 मौर्य होटल में अच्छा हवादार कमरा मिल गया। यह होटल राजमाता के बगल में और भूमा कांप्लेक्स के सामने स्थित है। तिरुपति के होटल ज्यादा महंगे नहीं है। वैसे आप तिरुमला हिल्स पर रहने के लिए बुकिंग करा सकते हैं। लेकिन इसके लिए आपको अपने तिरुमला जाने की नीयत तारीख पहले से ही तय करनी होगी। आप ट्रस्ट वेबसाइट पर ऑनलाइन बुकिंग करा सकते हैं।   http://www.ttdsevaonline.com/ )

(TIRUPATI, TIRUMALA, BALAJEE, ANDHRA PRADESH, TEMPLE , SOUTH INDIA IN SEVENTEEN DAYS 66)
   
  

No comments:

Post a Comment