Monday, January 21, 2013

नहीं भूलता स्वाद तिरुपति की थाली का


यूं तो तिरुपति में खाने के लिए आपको आसानी से उत्तर भारतीय खाना नहीं मिलता लेकिन यहां की दक्षिण भारतीय आंध्रा स्टाइल की थाली खाकर आप उस याद रखेंगे। तिरुपति रेलवे स्टेशन के सामने देवस्थानम ट्रस्ट के कांप्लेक्स विष्णु निवासम के अंदर आईआरसीटीसी की ओर से संचालित गोविंदम फूड कांप्लेक्स है। यहां का भी खाना अच्छा है। 48 रुपये की थाली के अलावा खाने के कई और विकल्प मौजूद हैं। दक्षिण के लेमन राइस का स्वाद यहां लिया सकता है। इस रेस्टोरेंट की साफ सफाई का तो कहना ही क्या।
तिरुपति शहर में रेलवे स्टेशन के आसपास खाने पीने के कई विकल्प हैं। हालांकि स्टेशन के सामने कई होटल हैं तो मराठी और उत्तर भारतीय थाली परोसने का दावा करते हैं लेकिन इनके खाने में वैसा स्वाद नहीं है। तिरुपति में हमने खाने की सबसे अच्छी जगह ढूंढी विष्णु निवासम के ठीक सामने मुतुमारन सरवना भवन।

 सरवना भवन की थाली 50 रुपये की है। इसमें 15 वेराइटी के डिश हैं। थाली में एक अच्छी चपाती भी देते हैं। साथ ही थाली में आप अपनी मर्जी से घी भी उड़ेल सकते हैं। वैसे केले के पत्ते से सजी थाली। हर सब्जी और दाल का स्वाद शानदार। थाली में ह्वाइट राइस के अलावा पुलाव राइस भी मौजूद था। स्वीट डिश और पापड़ के साथ अचार भी। और 50 रुपये में अनलिमिटेड खाइए। वर्दी वाले वेटर आपका आर्डर लेने के लिए तत्पर दिखाई देते हैं। एक बार यहां का खाना अच्छा लगने के बाद हमने कई जगह बदलकर खाने में प्रयोग करने का इरादा त्याग दिया।
रात को भोजन के बाद हमलोग टहलने निकले। पास में एक सरोवर के किनारे मंच सजा था। एक धार्मिक आयोजन में गायन चल रहा था। गीत तेलुगू में हो रहा था पर सुर हो तो भाषा गौण हो जाती है। हमने थोड़ी देर संगीत का आनंद लिया फिर होटल में वापस लौट आए। 

हनी केक का स्वाद -  बाद में तिरुपति के बाजारों में घूमते हुए इडली और डोसा के भी कई अच्छे स्टाल नजर आए। गांधी पथ पर हमें एक बेकरी शाप मिली। कई तरह के पेस्ट्री तो हमारे वंश महाराज ट्राई करते रहते हैं लेकिन हमें यहां मिली हनी केक। यानी पेस्ट्री पर शहद की एक परत लगी थी। बेटे को इसका स्वाद भा गया। बस मजा आ गया। वाह तिरुपति।
- -------   विद्युत प्रकाश मौर्य 

(TIRUPATI, TIRUMALA, BALAJEE, ANDHRA PRADESH, TEMPLE , SOUTH INDIA IN SEVENTEEN DAYS 70)

No comments:

Post a Comment