Sunday, July 29, 2012

ओडिशा के नीलांचल समुद्र की ओर...

सितंबर 1991 का जुलाई का महीना। हमलोग पिताजी को बैंक से मिलने वाली पहली एलटीसी में कहीं घूमने जाने वाले थे। काफी सोच विचार के बाद तय हुआ की पहली बार की इस यात्रा में कोलकाता और जगन्नाथ पुरी भ्रमण का आनंद उठाया जाए। इसमें कुछ शैक्षिक और कुछ धार्मिक यात्रा दोनों हो जाएगी। पर बिहार की राजधानी पटना से पुरी के लिए तब सीधी ट्रेन नहीं थी। दानापुर एक्सप्रेस के एसी 2 क्लास से हमलोग सपरिवार हावड़ा के लिए सवार हुए। तब ट्रेन में एसी-3 डिब्बा आया ही नहीं था। शाम को पटना से ट्रेन समय पर खुली। माताजी-पिताजी और हम छह भाई बहन। इनमें से कुछ तो पहली बार ट्रेन में बैठे हैं। उनको कौतूहल हो रहा है कि एसी डिब्बा होने के कारण बाहर का नजारा ठीक से दिखाई नहीं दे रहा है। हमलोग रेल में बैठने के बाद लंबी रेल यात्रा की उम्मीद में आराम फरमा रहे थे। सुबह नींद खुली तो ट्रेन डानकुनी जंक्शन क्रॉस कर रही थी। थोड़ी देर बाद खिड़की से स्टेशन दिखाई दिया लिलुआ। और इसके तुरंत बाद हावड़ा आ गया। ये क्या ट्रेन में सफर का पूरा मजा भी नहीं आया।
हम पहली बार विशाल हावड़ा रेलवे स्टेशन को देख रहे थे। इस हावड़ा स्टेशन का तो नजारा कुछ अलग ही था। हमने देखा कि यहां प्लेटफार्म तक कारें चली आती हैं सरपट। हमारी अगली ट्रेन शाम को थी। तो हमारे पास दिन भर समय था कोलकाता घूमने का। तो हमलोगों ने इस समय का सदुपयोग किया। पिताजी के परिचित का हावड़ा में एक होटल था। वहां सामान रखकर हमलोग दिनभर कोलकाता में घूमे। शाम को खाने पीने के बाद अगली ट्रेन के लिए हावड़ा स्टेशन पर मुस्तैद हो गए।

तब कंप्यूटरीकृत रेल आरक्षण तो शुरू हो गया था पर पूरा देश एक लिंक से जुड़ा नहीं था। पिताजी ने अपने हावड़ा से जगन्नाथ पुरी तक के टिकट को पहले ही किसी मित्र की मदद से हावड़ा से पूरी जाने वाली ट्रेन में भी आरक्षण करा लिया था। इसलिए अगली ट्रेन को लेकर हमलोग आश्वास्त थे। आगे का सफर शाम को श्री जगन्नाथ एक्सप्रेस से आरंभ हुआ। यह सफर भी रात भर का ही था। ट्रेन बालासोर, भद्रक होती हुई कटक पहुंची। कटक के बाद भुवनेश्वर। उसके बाद खुर्दा रोड फिर साक्षी गोपाल और फिर पुरी। सुबह हुई तो हमारी ट्रेन ओडिशा के स्टेशनों को पार कर रही थी। पुरी से पहले खुर्दा रोड नामक रेलवे स्टेशन से ही ट्रेन में पुरी मंदिर के पंडे आने लगे। उन्होंने हमारे खानदान के बारे में पूछताछ करना शुरू कर दिया। पर हमने पुरी में कहां जाकर रूकना है पहले से ही तय कर रखा था। लिहाजा रेल में मिलने वाले पंडों के चक्कर में नहीं पड़े। 

पुरी आखिरी रेलवे स्टेशन है। हमारी ट्रेन यहीं पर खत्म हो रही थी। पुरी से देश के हर कोने के लिए ट्रेनें खुलती हैं। रेलवे स्टेशन साफ सुथरा है। यहां क्लाक रुम समेत कई तरह की सुविधाएं उपलब्ध हैं। पुरी रेलवे स्टेशन से बाहर निकल कर हमलोग पुरी होटल जाने वाली बस में बैठ गए। यह होटल की ओर से प्रदान की जाने वाली निःशुल्क सेवा है। हालांकि हमलोग जगन्नाथ मंदिर के पास ही उतर गए। पुरी में हमारा पहले दिन का ठिकाना बना, गोयनका धर्मशाला। इस धर्मशाला में तब रहने का कोई शुल्क नहीं लिया जाता था। पर चलते समय में सफाई व्यवस्था के नाम पर अत्यल्प राशि दान करने का अनुरोध धर्मशाला वाले करते हैं। यह धर्मशाला पुरी जगन्नाथ मंदिर के काफी करीब स्थित है।
- विद्युत प्रकाश मौर्य   


(PATNA- HOWRAH, PURI, JAGANNATH EXPRESS )