Tuesday, July 24, 2012

मैया बाबू लाइन होटल- मलयपुर

हमलोग पटना से देवघर की यात्रा पर हैं। वैसे तो देश भर में अनगिनत लाइन होटल और ढाबे हैं। लेकिन पटना से देवघर जाते हुए जमुई जिले के मलयपुर में है   अनूठा लाइन होटल। जी हां, नाम है - मैया बाबू लाइन होटल। जैसे ही आप इस होटल में रूकते हैं..होटल की दीवारों पर ढेर सारे नीति वचन और प्रेरक वाक्य लिखे हुए दिखाई देते हैं। आप चाय नास्ता लेते हुए काफी कुछ यहां से प्रेरणा भी ले सकते हैं। अगर अंग्रेजी में अनुवाद करें तो इस होटल का नाम होता है मम्मी पापा लाइन होटल। ये होटल सन 1935 से चल रहा है। जब जमुई से बाबा धाम यानी देवघर जाने के लिए कच्ची सड़क हुआ करती थी। तब से चल रहा ये होटल। बाबा धाम जाने वाले कांवरियों को ये होटल दशकों से राह दिखाता आ रहा है। होटल खोलने वाले महेंद्र सिंह पास के ही गांव मलयपुर के रहने वाले हैं।

महेंद्र सिंह जीवन के 90 वसंत देख चुके हैं,लेकिन आंखे और दांत सलामत हैं। सेहत बहुत अच्छी है। बाबा भोले के भक्तों से उन्हें खास लगाव है। मलयपुर बिहार के बड़े गांवों में शुमार है। बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री चंद्रशेखर सिंह इसी गांव से हुए। करीब 500 राजपूत परिवारों के इस गांव के रहने वाले महेंद्र सिंह ने अपना पारिवारिक व्यवसाय छोड़कर कांवर लेकर जाने वाले बाबा भोले के भक्तों की सेवा में ये लाइन होटल खोला।

मैया बाबू लाइन होटल नाम क्यों...महेंद्र सिंह कहते हैं, जब जब आप मेरे होटल का नाम लेंगे अनायास ही आप अपने मां और पिताजी को याद कर लेंगे। तो भला इससे बढ़िया कोई नाम हो सकता है क्या.. मलयपुर से देवघर की दूरी 101 किलोमीटर है। होटल दीवारें कांवरियों को रास्ता बताती हैं साथ ही आगे के मार्ग की सावधानियों के बारे में भी आगाह करती हैं। 


लिखा है - आगे सोनो और चकाई के जंगल हैं। रास्ता टेढ़ा-मेढा और खतरनाक है। जहां से जो बातें अच्छी लगीं महेंद्र सिंह जी ने उसे अपने होटल के दीवारों पर चस्पा कर दिया है। कहते हैं, इन दीवारों पर लिखे नीति वचन से एक पर भी अगर आपने अमल कर लिया तो मेरी कोशिश सफल होगी। साथ ही आपके जीवन में भी बदलाव आएगा।

 महेंद्र सिंह की बूढ़ी आखों को 1934 का भूकंप याद है। आजादी   का   संघर्ष भी याद है। देश के आजाद होने का जश्न भी याद है। इतिहास के स्मृति चिन्हों में रूचि है। जमुई के खादी आश्रम में लंबे समय तक रहे आचार्य राममूर्ति का भी उन्हें साहचर्य मिला। जमुई और आसपास के चप्पे चप्पे का इतिहास उनके जुबान पर है। वे जमुई जिले के भीम बांध की चर्चा करते हैं। कहते हैं पांडवों ने अज्ञातवास के समय भीम बांध बनाया था। इन सारे इलाकों को बहुत अच्छे पर्यटक स्थल में विकसित किया जा सकता है लेकिन भीमबांध इलाके में नक्सलियों का कब्जा है।

प्रेरक किताब बोल अनमोल - मलयपुर गांव का जैन धर्म के इतिहास में भी महत्व है।  अपने होटल में आने वाले लोगों को लिए महेंद्र सिंह ने एक किताब भी प्रकाशित कराई है. बोल अनमोल..अच्छी अच्छी बातों और प्रेरक गीतों का संग्रह। महेंद्र सिंह समाज में कई तरह की विकृतियों और मूल्यों का ह्रास देख रहे हैं लेकिन फिर भी वे जीवन में निराश नहीं हैं। कहते हैं बहुत तपस्या के बाद मानव जीवन मिलता है। इसलिए हमें सत्कर्म ही करना चाहिए। अगर दुबारा जन्म लेने का मौका मिला तो भी मनुष्य ही बनना चाहूंगा। नहीं, मोक्ष की कामना बिल्कुल नहीं है। बार-बार धरती पर आकर लोगों की सेवा करना चाहता हूं।  


मैया बाबू लाइन होटल के ठीक सामने एक जैन मंदिर भी है। बताया जा रहा है कि यहां जल्द ही एक करोड़ की लागत से बनी महावीर स्वामी की मूर्ति लगाई जाने वाली है। दरअसल  महावीर स्वामी  की   जन्मस्थली का दावा  किया जाने वाला लछुआड़ गांव यहां से निकट ही है। 
( प्रभात खबर,   सभी संस्करणों में  पहले पेज पर एंकर प्रकाशित ) 
-    विद्युत प्रकाश मौर्य   Email- vidyutp@gmail.com
(MAIYA BABU LINE HOTEL, MAHENDRA SINGH, MALAYAPUR, BABA DHAM ROAD, JAMUI,  ) 

1 comment: